1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

धुम्रपान पर सख्ती से सेहतमंद हुआ ब्रिटेन

ब्रिटेन में सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट पीने पर पाबंदी लगाने के बाद सेहतमंद परिणाम सामने आए. पहले ही साल में हार्ट अटैक के मामलों में भारी गिरावट आई. जान भी बच रही है और सरकारी पैसा भी.

default

वैज्ञानिकों का कहना है कि हार्ट अटैक के मामलों में आई जोरदार गिरावट की वजह से कई लोगों के बेशकीमती जान बची है. आपातकालीन सेवाओं और अस्पताल के खर्चे में सरकार ने भी सवा करोड़ डॉलर बचाए हैं. बाथ यूनिवर्सिटी की तंबाकू रिसर्च ग्रुप की डायरेक्टर एना गिलमोर का कहना है, ''यह नतीजे एक बड़े फायदे का नमूना भर हैं. हम फिलहाल हार्ट अटैक न होने के फौरी फायदे देख रहे हैं. लंबी अवधि में सोचें तो हर किसी के स्वास्थ्य को इससे बहुत ज्यादा फायदा है.''

गिलमोर के शोध में कहा गया है कि जुलाई 2007 के बाद हार्ट अटैक के मामलों में भारी गिरावट आई है. ब्रिटेन में तीन साल पहले सार्वजनिक स्थानों पर धुम्रपान करने पर पाबंदी लगाई गई थी.

Raucher vor der Tür in New York

सिगरेट से हर साल 50 लाख मौतें

अस्पतालों में हार्ट अटैक के मरीजों की संख्या 1200 तक घटी है. लंदन हेल्थ ऑब्जरवेट्री के शोध में भी इसी तरह की बातें सामने आई हैं. एलएचओ का कहना है कि बैन लगाने के एक साल के बाद ही इमरजेंसी सेवाओं में 84 लाख पाउंड यानी करीब 58 करोड़ रुपये बचत हुई है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक धुम्रपान की वजह से दुनिया भर में हर साल 50 लाख लोगों की मौत होती है. इनमें साढे़ चार लाख युवा शामिल हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि सिरगेट से जितना राजस्व हर देश को मिलता है, उससे कहीं उसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता है. 2003 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 160 देशों से कहा था कि वह धुम्रपान पर पूरी तरह बैन लगा दें. अब तक सिर्फ 26 देशों ने ही यह प्रतिबंध लगाया है.

रिपोर्ट: रॉयटर्स/ओ सिंह

संपादन: आभा मोंढे