1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

'दौलत और शोहरत खेल बिगाड़ देती है'

टेस्ट टीम से बाहर हो चुके युवराज सिंह का कहना है कि नए खिलाड़ियों का खेल के प्रति समर्पण कम है. वह कहते हैं युवा क्रिकेटर चकाचौंध में फंसकर खेल से दूर हो जाते हैं. उनके मुताबिक कुछ नए खिलाड़ी तो बात तक नहीं सुनते हैं.

default

एक इंटरव्यू के दौरान युवराज सिंह ने कहा, ''विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे युवाओं में गजब की प्रतिभा है. लेकिन एक सीनियर के तौर पर मैं उनसे कहता हूं कि वह ऐसी गलतियां न करें, जो मैंने कीं. मैं बेहतर भविष्य के लिए उन्हें गाइड करने की कोशिश करता हूं.''

सवाल जवाब के दौरान जब यह पूछा गया कि क्या नए खिलाड़ी उनकी बात सुनते हैं, तो युवराज ने कहा, ''नहीं, खास तौर पर रोहित और विराट बात नहीं सुनते हैं. सुरेश रैना थोड़ी बहुत बात सुनते हैं. लेकिन रोहित और विराट हमेशा मुझसे बहस करने लगते हैं. मैं इसके लिए युवाओं को जिम्मेदार नहीं मानता. कई बार सचिन और सौरव भी मुझे समझाते थे लेकिन मैं भी अनसुनी कर दिया करता था. मैं सोचता था कि इन्हें क्या पता है.''

क्रिकेट की मशहूर वेबसाइट क्रिकइंफो से बातचीत करते हुए उन्होंने माना कि शोहरत, पैसा और पार्टी खिलाड़ियों पर असर डालती है. 27 साल के युवराज ने कहा, ''जब आप देश के लिए खेलते हो तो आपका एक रुतबा होता है. फिर आपको लगता है कि बड़ा घर होना चाहिए, फिर बढ़िया कार की जरूरत महसूस होती है. आप मशहूर हो जाते हैं, लोग आपको पसंद करने लगते हैं.''

युवराज ने यह माना की शोहरत कई खिलाड़ियों के दिमाग पर छा जाती है. उन्होंने कहा, ''आपके चारों ओर मीडिया का आभामंडल बन जाता है. आपका ध्यान दूसरी ओर जाने लगता है. आप प्रैक्टिस को कल पर टालने लगते हैं. उस मोड़ पर किसी रास्ता दिखाने वाले की जरूरत महसूस होती है. यह बात समझनी चाहिए कि आज आप जहां भी हैं क्रिकेट की वजह से हैं. इसलिए पांच से आठ घंटे प्रैक्टिस करना जरूरी है, उसके बाद आप चाहे जो मर्जी करें.''

10 साल से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे युवराज को इस साल दूसरी बार टीम से बाहर किया गया है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक अक्टूबर से शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज में वह नहीं खेल सकेंगे. मुख्य चयनकर्ता श्रीकांत का कहना है कि उन्होंने हर चीज को देखते हुए सबसे बढ़िया टीम चुनी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ ओ सिंह

संपादन: एमजी

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री