1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

दोषियों पर आजीवन पाबंदी न लगे: इमरान

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इमरान खान ने कहा है कि स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों में घिरे क्रिकेटरों पर अगर आरोप साबित होता है तो वह आजीवन पाबंदी लगाए जाने के पक्ष में नहीं हैं. सीमित प्रतिबंध और भारी भरकम जुर्माने की मांग.

default

इमरान खान का मानना है कि सिर्फ कुछ खिलाड़ियों की आपराधिक गतिविधियों के लिए पूरी टीम पर प्रतिबंध लगा देना सही नहीं है. "मुझे लगता है कि इस मामले में आईसीसी अपना फैसला लेने जा रही है. ऐसा संदेश दिया जाना चाहिए कि अपराध करने से किसी को फायदा नहीं होता. स्पॉट फिक्सिंग के मामले में, नो बॉल फेंके जाने के लिए उन पर भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिए. आजीवन प्रतिबंध के बजाए उनकी जेब ढीली की जानी चाहिए. इस मामले में एक उदाहरण दिया जाना चाहिए और जुर्माना जबरदस्त होना चाहिए."

इमरान के मुताबिक खिलाड़ियों पर कुछ समय के लिए क्रिकेट से बाहर रहने की रोक सही है लेकिन हमेशा के लिए प्रतिबंध का उन्होंने समर्थन नहीं किया है. "यह एक सही निर्णय होना चाहिए जिसमें खिलाड़ियों पर कुछ समय तक क्रिकेट खेलने पर पाबंदी लगे लेकिन दोनों में फर्क होना चाहिए. अगर कोई टीम जानबूझकर मैच हारती है तो फिर आजीवन पाबंदी लगाई जानी सही है. लेकिन स्पॉट फिक्सिंग जैसे केस में मैच के नतीजे पर असर नहीं पड़ता इसलिए उन पर जुर्माना और सीमित पाबंदी लगनी चाहिए."

स्पॉट फिक्सिंग के आरोप सामने आने के बाद से ही क्रिकेट विश्लेषकों ने पाकिस्तान क्रिकेट टीम पर पाबंदी लगाए जाने की मांग की है लेकिन इमरान खान ने इसका विरोध करते हुए कहा कि कुछ खिलाड़ियों की गलती की सजा पूरी टीम को नहीं दी जानी चाहिए. "पाकिस्तान क्रिकेट पर क्यों पाबंदी लगनी चाहिए. पाकिस्तान क्रिकेट का इस मामले से क्या लेना देना है. अगर कोई क्रिकेटर अपराध में शामिल है, अगर कोई भारतीय क्रिकेटर दुकान से चोरी करता पकड़ा जाता है तो क्या पूरी टीम पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए."

इमरान खान का कहना है कि दोषियों को सजा मिलनी चाहिए लेकिन क्रिकेट जारी रहना चाहिए क्योंकि इन खिलाड़ियों की वजह से क्रिकेट पर असर नहीं पड़ना चाहिए. इमरान ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पर भी निशाना साधा है कि उसने मैच फिक्सिंग के आरोपों की कभी भी सही जांच नहीं कराई. इमरान के मुताबिक मैच फिक्सिंग के मामला सबसे पहले 1993 में सामने आया था लेकिन पीसीबी ने कभी समस्या की जड़ तक पहुंचने की कोशिश नहीं की.

लॉर्ड्स टेस्ट में बिचौलिए से पैसा लेकर पहले से तय समय पर नो बॉल फेंकने के मामले में पाकिस्तान के कुछ क्रिकेटर फंसे हुए हैं. मोहम्मद आसिफ, सलमान बट, मोहम्मद आमेर और कामरान अकमल से पुलिस ने पूछताछ भी की है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links