1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

दूसरे टेस्ट में संकट में ऑस्ट्रेलिया

एशेज सीरीज के दूसरे टेस्ट में मेजबान ऑस्ट्रेलिया संकट में फंस गया है. जेम्स एंडरसन के चार विकेट की मदद से इंग्लैंड ने पहले दिन ही रिकी पोंटिंग की सेना को 245 रन पर आउट कर दिया. सिर्फ हसी कुछ जम कर खेले.

default

पहले ओवर में दो विकेट गिरने के बाद किसी पारी का क्या हाल होता है, क्रिकेट समझने वाले अच्छी तरह जानते होंगे. कैटिच रन आउट हो गए, तो पोंटिंग पहली ही गेंद पर रुखसत हो गए. इसके बाद तीसरा विकेट भी तब गिर गया, जब स्कोरबोर्ड पर कुल दो रन थे. यानी दो रन पर तीन विकेट.

वैसे ऑस्ट्रेलिया की जुझारू टीम इतनी आसानी से हार नहीं मानती और एडिलेड में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट में भी उसने इसका प्रदर्शन किया. शेन वॉटसन और माइकल हसी ने बल्ला अड़ा दिया और इंग्लैंड के गेंदबाजों को शुरुआती सफलता का बहुत ज्यादा फायदा नहीं उठाने दिया.

हसी पांच घंटे तक क्रीज पर खड़े रहे और इस दौरान एंडरसन से लेकर स्वान तक की गेंदों को बखूबी झेला. आखिरकार स्वान ने ही उन्हें कॉलिंगवुड के हाथों कैच करा दिया. हसी ने मुश्किल वक्त में बेहतरीन 93 रन बनाए. हालांकि वह दुर्भाग्यशाली रहे कि उनका सैकड़ा पूरा नहीं हो पाया.

पांच विकेट 156 रन पर गिरने के बाद ऑस्ट्रेलिया एक बार फिर संकट में था. लेकिन विकेटकीपर बल्लेबाज हैडिन ने निचले क्रम में अर्धशतक जमा कर अपनी टीम को बहुत बुरी स्थिति से बचा लिया. ऑस्ट्रेलिया की पूरी पारी 245 रन पर खत्म हो गई.

जेम्स एंडरसन ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए चार विकेट लिए, जबकि स्वान को दो विकेट मिला. ब्रॉड और फिन ने एक एक विकेट बांटा, जबकि ऑस्ट्रेलिया को दो विकेट रन आउट के तौर पर गंवाने पड़े.

इसके बाद इंग्लैंड को भी बचे हुए वक्त में एक ओवर खेलना पड़ा, जिसे उसने बिना विकेट गंवाए झेल लिया.

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज को एशेज कहते हैं इसे क्रिकेट की सबसे प्रतिष्ठित सीरीज समझा जाता है. हर दो साल पर होने वाली इस सीरीज में आम तौर पर ऑस्ट्रेलिया हावी रहता था लेकिन पिछले कुछ सालों में इंग्लैंड ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है. दो साल पहले इंग्लैंड में हुई सीरीज में इंग्लैंड को जीत मिली. इस सीरीज का यह दूसरा टेस्ट है. पहला टेस्ट ड्रॉ रहा है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links