1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

दूसरी पारी में टीम इंडिया पस्त

मार्टिन की गेंदों की धार ने मेजबान टीम के पांव उखाड़ दिये और महज 86 रन पर छह विकेट गंवा चुकी टीम इंडिया की जीत की उम्मीदें अब आखिरी सांसें गिन रही है. कल तक बल्लेबाजों की ओर तकती किवी टीम के गेंदबाजों ने मैच पलट दिया.

default

रविवार सुबह जब खेल शुरू हुआ तो हालात उतने बुरे नहीं थे. हां पहले ही टेस्ट मैच में विलियम्सन के शतक ने मेहमान टीम की रगों में जोश जरूर भर दिया हालांकि इसके बाद भी वो भारत से मिले लक्ष्य को पार नहीं कर सके. प्रज्ञान ओझा आज दूसरे दिन भी कामयाब रहे और न्यूजीलैंड की पूरी टीम 459 रन बनाकर आउट हो गई. कयामत तो तब बरपा हुई जब टीम इंडिया के बल्लेबाजों की दीवार क्रिस मार्टिन की तेज गेंदों के आगे सूखे पत्तों की तरह उड़ गई.

सहवाग, गंभीर, द्रविड़, रैना कोई भी नहीं चला. हालत इतनी खराब थी कि महज 15 रनों पर टीम इंडिया के पांच विकेट गिर गए. इनमें तेंदुलकर इकलौते ऐसे बल्लेबाज थे जिनके रनों का आंकड़ा दहाई में पहुंचा. हालांकि वो भी 11 रन बनाकर आउट हो गए. गंभीर, और रैना तो अपना खाता भी नहीं खोल पाए. ऐसी हालत में धोनी ने कुछ देर पिच पर टिक कर टीम को संभालने की कोशिश की लेकिन रन वो भी नहीं बना सके. उधर क्रिस मार्टिन चुप बैठने को तैयार नहीं थे. आखिरकार जीत मार्टिन की ही हुई और धोनी भी महज 22 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन की तरफ मुड़ गए. टीम इंडिया का स्कोर तब सिर्फ 65 था और उसके छह खिलाड़ी आउट हो चुके थे.

दूसरे छोर से लक्ष्मण किसी तरह अपना विकेट बचाने में कामयाब हुए हैं उनका साथ दे रहे हैं हरभजन. दिन का खेल खत्म होने तक लक्ष्मण 34 और हरभजन 12 रन बना कर खेल रहे थे. टीम का स्कोर है 82. ऐसी हालत में कल क्या होगा अंदाजा लगाना ज्यादा मुश्किल नहीं है.

आज का दिन पूरी तरह से क्रिस मार्टिन के नाम रहा जिन्होंने 25 रन खर्च करके 5 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा और मैच का रुख पलट दिया. अब टीम इंडिया गेंद दर गेंद संघर्ष कर रही है और हालात सुधरने की बजाय बिगड़ती जा रही है. एक दिन पहले जो पिच विकेटों के लिए तरस रहा था उस पर आज इतने विकेट गिरे कि वो रनों के लिए तरस कर रह गया. कल केवल तीन विकेट गिरे और आज ग्यारह. मैच में अब बस एक दिन का खेल बाकी है, लक्ष्मण और हरभजन कितनी देर तक पारी संभालते हैं, टीम इंडिया की हार के एलान का समय इसी बात से तय होगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links