दुनिया के सबसे बड़े जहाज, वो भी जुड़वां | ताना बाना | DW | 12.11.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

दुनिया के सबसे बड़े जहाज, वो भी जुड़वां

पानी के जहाज पर पांच सितारा सुविधाएं नई बात नहीं हैं लेकिन समुद्र में तैरते जहाज पर बाग बगीचों के बीच जीवन की हर सुविधा मौजूद होना बिल्कुल अनोखी बात है. दक्षिण कोरिया ने दुनिया का सबसे बड़ा जहाज बनाकर यह कर दिखाया है.

default

समुद्र में तैरती आलीशान जिंदगी की कल्पना पूरी करता यह ऐसा जहाज है जिस पर शानदर रेस्तरां, बार, जिम और हर तरह के ऐशो आराम तो हैं ही, हरे भरे पेड़ों वाला शानदार बगीचा और आईस स्केटिंग के साथ स्विमिंग पूल भी इस पर मौजूद हैं.

ऐसा जहाज आखिर क्यों न दुनिया भर में आकर्षण का केन्द्र बने! शायद इसीलिए इस जहाज का नाम भी अलोर ऑफ द सीज यानी "सागर का आकर्षण" रखा गया है. दक्षिण कोरिया की कंपनी एसटीएक्स ने इस जहाज को फिनलैंड क्रूज शिपयार्ड में बनाया है. गुरुवार को यह जहाज पहली यात्रा के लिए फिनलैंड से अमेरिका रवाना किया गया. जहां यह अपने जुड़वां जहाज ओएसिस ऑफ द सी के साथ दुनिया के सामने पेश किया जाएगा.

जहाज का संचालन करने वाली कंपनी रॉयल कैरेबियन के मार्केटिंग डायरेक्टर रेबेका बार्बर ने बताया कि दुनिया के इस सबसे बड़े जहाज की लंबाई 360 मीटर है और पानी सतह से इसकी ऊंचाई 65 मीटर है. इसका वजन दो लाख 25 हजार 282 टन है. बार्बर ने बताया कि इसी आकार वाला जहाज ओएसिस ऑफ द सी महज 11 महीने पहले ही अमेरिका में बनाया गया. ये दोनों दुनिया के सबसे बड़े जहाज हैं और इन पर सवार होने के बाद यह अहसास ही नहीं किया जा सकता कि आप समुद्र में हैं.

दक्षिण कोरिया के इस जहाज पर न्यूयॉर्क के सेन्ट्रल पार्क की शक्ल वाला बगीचा बनाया गया है. इसके अलावा न्यूयॉर्क के कोनी आइलैंड की तर्ज पर अम्यूजमेंट पार्क भी बनाया गया है. साथ ही बर्फ के शौकीन लोगों के लिए इसमें आईस स्केटिंग का भी इंतजाम है. इसकी विशालता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 16 डेक वाले इस जहाज को 7 हिस्सों में इस तरह बांटा गया है जिसे देखने से यह कतार में खड़े सात जहाजों जैसा दिखता है. जहाज पर एक बार में 5600 लोग यात्रा कर सकते हैं. इसके लिए 2700 कमरे और आलीशान सुविधाओं वाले 28 लग्जरी भव्य सुइट्स हैं.

जहाज पर स्टारबक्स के कॉफी हाऊस सहित एक से एक बेहतरीन 26 रेस्तरां हैं. बार्बर ने बताया कि दुनिया भर में छाई मंदी के बावजूद कंपनी ने इन दोनों विशालकाय जहाजों को चलाने का फैसला किया है क्योंकि ढेर सारी खासियतों का खजाना होने की वजह से कंपनी को भरोसा है कि लोग इनकी ओर खिंचे चले आएंगे.

फिनलैंड के तिर्कू से रवाना हुआ यह जहाज 13 दिन में फ्लोरिडा पंहुचेगा. इसके बाद 5 दिसंबर को यह पहले सफर पर निकलेगा. सात रातों वाले इस सफर में यात्रियों को पश्चमी कैरेबियाई सागर की सैर कराई जाएगी. इस टूर पैकेज में मंहगी और सस्ती दोनों तरह की सेवाएं शामिल हैं. इसमें 899 से लेकर 15609 अमेरिकी डॉलर प्रति व्यक्ति का पैकेज मौजूद है.

रिपोर्टः एएफपी/निर्मल

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links