1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

दुनिया के सबसे पुराने मेले में नए जमाने की फिल्में

लाल कालीन बिछ गई है, सिनेमा के पर्दे दुरुस्त हैं, कुर्सियां चमका दी गई हैं. कुछ घंटों बाद पलाज्जो डेल सिनेमा की बत्तियां बुझेंगी. पर्दा उठेगा डैरेन अरोनोफ्सकी के ब्लैक स्वान से और शुरू हो जाएगा 67वां वेनिस फिल्मी मेला.

default

मशहूर हैं वेनिस की रंगीनियां

एक बेहद सख्त और पूर्व बैले डांसर की हुनरमंद बेटी नीना का नए शो में रोल पाने के लिए दूसरी डांसर से होड़, एक खलनायक की ज़िंदगी में अचानक उसकी 11 साल की बेटी के आने से मची उठापटक और पांच दशक पहले के तीन बेटों वाले मियां बीवी की कहानी जिनका बड़ा बेटा बीमारी में अपनी मासूमियत खोकर जीवन और मृत्यु के सवालों में उलझ जाता है.वेनिस के फिल्मी मेले में गोल्डेन लॉयन की जंग के लिए इन तीनों कहानियों की चर्चा सबसे ज्यादा है.

वेनिस के सबसे बड़े अवॉर्ड की होड़ में कोप्पोला और अरोनोफ्सकी के अलावा चार और अमेरिकी फिल्मकार हैं. केली राइकार्ड, जूलियन श्नैबेल और विलियम दाफोए और मोन्टे हेलमैन. इटली की तरफ से मुकाबले में चार और फ्रांस की तीन फिल्में हैं. पूरे एशिया से सिर्फ तीन फिल्मों को जगह मिली है जिनमें दो जापान और एक चीन की फिल्म है.

वेनिस दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित फिल्मी मेले में गिना जाता है और हर गुजरते साल के साथ इसकी चमक बढ़ती जाती है. कान और बर्लिन फिल्मों के कारोबार के लिहाज से अहम मानी जाती हैं लेकिन वेनिस की पहचान विशुद्ध रूप से फिल्मों के क्राफ्ट और आर्ट को लेकर है. इस साल के मुकाबले के लिए अब तक 23 फिल्मों का नाम तय हो चुका है जबकि आखिरी फिल्म के नाम एलान रविवार को होगा.

कला फिल्मों में आम तौर पर बुजुर्ग और दिग्गज फिल्मकार होते हैं लेकिन वेनिस में इस बार युवा फिल्मकार छाए हुए हैं.

आयोजक ईरानी फिल्मकार जफर पनाही को भी मेले में शामिल करना चाहते हैं लेकिन उन्हें डर है कि ईरान की सरकार शायद ही पनाही को वेनिस आने की इजाज़त दे. पनाही की शॉर्ट फिल्म द अकॉर्डियन मेले के पहले दिन बुधवार को दिखाई जाएगी. पनाही की फिल्म द सर्किल ने 2000 में वेनिस फिल्म फेस्टिवल का गोल्डेन लॉयन जीता था. वैसे पुरस्कारों में यहां सिल्वर लॉयन, वोल्पी कप्स, गोल्डेन ओसेल्लास और स्पेशल जूरी अवॉर्ड भी है.

आठ दशक पहले शुरू हुआ दुनिया का सबसे पुराना फिल्मी मेला इस बार नए फिल्मकारों की चमक से रोशन रहेगा. शुरुआत 41 साल के अमेरिकी फिल्मकार डैरान अरोनोफ्सकी से हो रही है और ये कतार 43 साल के फ्रांसोआ ओज़ोन से होती हुई 39 साल की ऑस्कर विजेता सोफिया कोप्पोला तक जाती है.युवा फिल्मकारों की ज्यादा मौजूदगी को संतुलित करने के लिए दिग्गज फ्रांसीसी अभिनेताओं कैथरीन और गेरार्ड की कॉमेडी पोतिश भी है. 15 देशों की 24 फिल्में पांच पुरस्कारों के लिए आपस में मुकाबला करेंगी लेकिन 11 दिन के मेले में देखने के लिए 34 देशों की 74 फिल्में हैं.

DW.COM

WWW-Links