1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

दुनिया की सबसे महंगी कार पहुंची भारत

दुनिया की सबसे महंगी कार भारत पहुंच गई है. लग्जरी कार बनाने वाली कंपनी बुगाती ने अपनी कार को भारत में बेचने की तैयारी कर ली है. इस कार की कीमत है 16 करोड़ रुपये, लेकिन क्या भारत की सड़कें इसके लिए तैयार हैं.

default

वाह भई वाह

बुगाती वेयरॉन 16.4 ग्रैंड स्पोर्ट नाम की यह कार गुरुवार को दिल्ली में पेश की गई. इसकी अधिकतम गति 407 किलोमीटर प्रतिघंटा है और कीमत बस 16 करोड़ रुपये. हालांकि भारत की सड़कों पर यह कार अपनी पूरी ताकत से दौड़ पाएगी या नहीं, इस बारे में अभी लोगों को शक है.

बुगाती के एग्जेक्यूटिव जूलियस क्रूता को लगता है कि राजाओं की धरती रही भारत में लग्जरी कारों का बाजार बहुत बड़ा है. उन्होंने कहा, "पहले भी यहां से हमें बहुत अच्छा रिस्पॉन्स मिलता रहा है और मुझे लगता है कि बुगाती के आने से भारत में हमारे ग्राहकों को बहुत अच्छा लगेगा."

भारत में करोड़पतियों की तादाद में हर साल बढ़ोतरी हो रही है और पश्चिमी देशों की लग्जरी कार बनाने वाली कंपनियों को लगता है कि तेजी से बढ़ती भारतीय अर्थव्यस्था में उनके उत्पादों के लिए बाजार तलाशना मुश्किल नहीं होगा.

हालांकि भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर की परेशानियां उनकी चिंता का सबब बनी हुई हैं. मसलन देश की सड़कों की हालत बुगाती जैसी कारों के लिए ज्यादा संभावनाएं पैदा नहीं करती. शहरों में तो सड़कें सामान्य ट्रैफिक को संभाल पाने में भी नाकाम हो रही हैं, हाईवे भी इतने अच्छे नहीं हैं कि उन पर कोई गाड़ी 400 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ सके.

भारत में अगर महंगी और तेज कारों के मालिकों की बात चलती है तो क्रिकेट सुपर स्टार सचिन तेंदुलकर का जिक्र होता है जिनके पास फरारी है. लेकिन वह भी इसे सड़कों पर अल सुबह ही निकाल पाते हैं क्योंकि मुंबई के ट्रैफिक की हालत उन्हें दिन में तो इसे चलाने की इजाजत नहीं देती.

इसके बावजूद महंगी और तेज गाड़ियां बनाने वाली कंपनियां अगर अपने उत्पाद भारत में उतार रही हैं तो जाहिर है उन्हें बड़ा बाजार नजर आ रहा है. कुछ ही दिन पहले लग्जरी बाइक बनाने वाली कंपनी हार्ले डेविडसन ने भी अपने कई मशहूर मॉडल भारत में उतारे हैं. जुलाई में दिल्ली में उन्होंने अपना चमचमाता शोरूम खोला है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links