1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

दिवालिया हो जाते हैं पूर्व खिलाड़ी

पेशेवर खिलाड़ियों की बड़ी शान होती है. उनके पास पैसा और शोहरत होता है. लेकिन इंगलिश प्रीमियर लीग के पांच में तीन खिलाड़ी रिटायर करने के पांच साल के अंदर ही दिवालिया हो जाते हैं.

रिटायर हो चुके पेशेवर खिलाड़ियों के लिए काम करने वाले एक संगठन एक्सप्रो के अनुसार हफ्ते में 30,000 पाउंड कमाने के बावजूद बहुत से खिलाड़ी अपनी कमाई खुलकर खर्च कर देते हैं या गलत सलाह के कारण गलत जगह पर निवेश कर नुकसान उठाते हैं. इसके अलावा तीन में से एक को तलाक की खर्चीली प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है. संगठन के मुख्य अधिकारी जेफ स्कॉट का कहना है, "सामान्य प्रशंसकों को यह अविश्वसनीय लग सकता है, लेकिन ऐसा हो सकता है और ऐसा होता है."

स्कॉट खुद लेसेस्टर सिटी और बर्मिंघम क्लबों के डिफेंडर रह चुके हैं. एक्सप्रो संगठन 30,000 पूर्व खिलाड़ियों को सलाह देता है. संगठन के प्रतिनिधि का कहना है कि बहुत से खिलाड़ी टैक्स विभाग के लिए पैसे अलग से रखना भूल जाते हैं. दूसरी ओर उनका खर्च भी बढ़ता रहता है.

इंगलैंड के प्रोफेशनल फुटबॉलर एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी गॉर्डन टेलर इस रिसर्ट के नतीजों पर संदेह करते हैं, लेकिन साथ ही कहते हैं कि दिवालिया होने वाले खिलाड़ियों का सही आंकड़ा 10 से 20 प्रतिशत है. उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा, "खिलाड़ियों के दिवालिया होने के बारे में तथ्य यह है कि उन आंकड़ों जैसा कुछ नहीं है." टेलर का कहना है कि उनका संगठन खिलाड़ियों से उन दिनों की तैयारी करने को कहता है जब वे पांच या छह अंकों वाली साप्ताहिक कमाई नहीं करेंगे.

गॉर्डन टेलर के अनुसार कुछ अपवादों को छोड़कर फुटबॉल खिलाड़ी खेलना बंद करने के बाद उतनी कमाई नहीं करते. "हम युवा खिलाड़ियों को भविष्य के लिए बचत करने को कहते हैं." टेलर ने खिलाड़ियों को ऐसे एजेंटों और सलाहकारों से सावधान रहने की चेतावनी दी है जो उनकी कमाई के कारण उनमें दिलचस्पी लेने लगे हैं. इसके अलावा खेल के बाद के करियर के लिए प्रोफेशनल फुटबॉलर एसोसिएशन पूर्व खिलाड़ियों को ट्रेनिंग भी देता है.

गॉर्डन टेलर साफगोई से कहते हैं, "यह बचत के बारे में है, यह संवेदनशील होने के बारे में है, यह सावधान होने के बारे में है, यह उस लाइफस्टाइल की उम्मीद नहीं करने की बात है." टेलर का कहना है कि हर आदमी नई स्थिति के अनुरूप नहीं ढल पाता, इसलिए रणनीति बनाना जरूरी है. वे पूर्व खिलाड़ी पॉल गैसक्वाइन का हवाला देते हैं, जो फुटबॉल का करियर खत्म होने के बाद से नशे की लत से जूझ रहे हैं.

एक्सप्रो का कहना है कि वह बहुत से खिलाड़ियों की मदद कर रहा है, जिनमें इंगलैंड के पूर्व मिडफील्डर ली हेंड्री भी शामिल हैं. उन्हें पिछले साल जनवरी में दिवालिया घोषित कर दिया गया था.

एमजे/आईबी (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री