1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दिल वालों की नहीं, अपराधियों की दिल्ली

भारत की राजधानी नई दिल्ली में अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं. दिल्ली पुलिस के आकंड़ों के मुताबिक राजधानी में इस साल की पहली छमाही में हत्या और बलात्कार के मामलों में तेजी आई है. औसतन हर दिन एक से ज्यादा हत्या और बलात्कार हुआ.

default

महिलाओं के लिए असुरक्षित

तेजी से आर्थिक विकास करते भारत की राजधानी में महिलाओं से यौन बदसलूकी के मामले बढ़े हैं. जनवरी से जून तक दिल्ली में बलात्कार के 277 मामले दर्ज हुए. बीते साल की पहली छमाही में बलात्कार के 237 मामले सामने आए थे. यानी इस साल अब तक बलात्कार के कम से कम 40 और मामले सामने आए हैं और 17 फीसदी की वृद्धि हुई है. हाल ही में कराए गए एक सरकारी सर्वेक्षण में ज्यादातर महिलाओं ने माना था कि दिल्ली में वह सुरक्षित महसूस नहीं करती हैं. ये आकंड़े भी कुछ ऐसी तस्वीर पेश करते हैं.

Indien Zug Commonwealth Games 2010

दिल्ली में होंगे कॉमनवेल्थ गेम्स

हत्याओं के बढ़े मामलों से भी दिल्ली की डरावनी छवि सामने आती है. पुलिस के मुताबिक इस साल की पहली छमाही में दिल्ली में हत्या के 274 मामले दर्ज हुए. जबकि बीते साल यह संख्या 254 थी.

दिल्ली पुलिस में बीते तीन साल में 22,160 नए पुलिसकर्मी भर्ती हुए, जिन्हें मिलाकर पुलिस फोर्स की तादाद करीब 80,000 है. लेकिन इससे अपराधों पर नियंत्रण होता नहीं दिख रहा है. दिल्ली में अक्टूबर से कॉमनवेल्थ खेल भी होने हैं.

वैसे मनोचिकित्सक और समाजशास्त्री बढ़ते अपराधों के लिए पुलिस से ज्यादा अन्य कारणों को जिम्मेदार ठहराते हैं. दिल्ली में अमीर और गरीब के बीच की खाई तेजी से बढ़ी है. पैसा और रौब दिखाने का रिवाज अब दिल्ली का स्टाइल बन गया है. उत्तर भारत में लिंगानुपात पूरी तरह लड़खड़ा चुका है. लगातार मची होड़ ने दिल्ली वालों से सकून छीन लिया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ ओ सिंह

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links