1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दिल्ली गैंगरेप में दो और गिरफ्तार

भारतीय राजधानी दिल्ली में चलती बस में बलात्कार मामले में दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है. संसद में भी इसे लेकर खासी बहस हुई और कुछ सांसदों ने बलात्कारियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की.

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज करा रही लड़की की स्थिति नाजुक बनी हुई है और उसे लगातार जीवन रक्षक उपकरणों पर रखा जा रहा है. डॉक्टरों का कहना है कि मंगलवार को उसकी स्थिति अचानक और खराब हो गई.

दिल्ली में रविवार रात की इस घटना के बाद सोमवार को दो लोगों को हिरासत में लिया गया था, जिसके बाद मंगलवार को दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया. अपने एक दोस्त के साथ रविवार को घर जा रही इस महिला को दक्षिण दिल्ली में बस वाले ने घर पहुंचाने के बहाने बस में बुलाया और उसका सामूहिक बलात्कार किया गया. इस दौरान महिला को बुरी तरह पीटा भी गया और उसके दोस्त की भी पिटाई हुई.

संसद में मंगलवार को यह मामला उठा और सांसदों ने बलात्कारियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग की. समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन तो सदन के अंदर ही रो पड़ीं. दोनों ही सदनों के नेताओं का कहना था कि मौजूदा कानून काफी नहीं है और उसे बदलने की जरूरत है. भारत के गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि वह सांसदों की चिंता को समझते हैं और इस बात को मानते हैं कि दिल्ली सहित पूरे भारत में महिलाओं की सुरक्षा पर ज्यादा काम करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि राजधानी में पुलिस गश्त बढ़ाने की जरूरत है.

उन्होंने कहा, "यह प्रस्ताव रखा गया है कि इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक अदालत में हो ताकि सुनवाई लंबी न खिंचे. अगर किसी तरह की गलती पाई गई तो जिम्मेदार पुलिसवालों पर भी कार्रवाई होगी."

दिल्ली हाई कोर्ट ने भी कहा कि वह इस घटना के बाद चिंतित है और इस मामले में तेजी से कार्रवाई की जरूरत है. उधर भारतीय मानवाधिकार आयोग ने भी इस मुद्दे पर गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस को नोटिस भेजा है. आयोग का कहना है कि इस घटना के बाद लोगों का पुलिस और कानून व्यवस्था पर भरोसा घटा है. उन्होंने दो हफ्ते के अंदर रिपोर्ट मांगी है.

मामले के प्रमुख आरोपी और बस के ड़्राइवर राम सिंह उसके भाई मुकेश, विनय शर्मा और पवन गुप्ता को रिमांड में भेज दिया गया है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार ने बताया, "राम सिंह उस रात बस नहीं चला रहा था. उसने आवाज दी कि बस द्वारका जा रही है और लड़की और उसके दोस्त को इसमें सवार होने को कहा. बस चलने के साथ उन्होंने महिला के साथ बदतमीजी शुरू कर दी और जब उसके दोस्त ने विरोध किया तो उसकी जम कर पिटाई कर दी."

उन्होंने बताया कि महिला के बलात्कार के बाद उसे महिपालपुर फ्लाई ओवर के पास अर्धनग्न हालत में फेंक दिया गया. तीन लोगों को दिल्ली से ही पकड़ा गया, जबकि एक शख्स राजस्थान भाग गया था. उसे वहां से गिरफ्तार करके लाया गया है.

एजेए/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

WWW-Links