1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दिल्ली एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सर्वश्रेष्ठ

नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को दुनिया भर में चौथे सर्वश्रेष्ठ एयरपोर्ट का खिताब मिला है. एशिया प्रशांत क्षेत्र में सबसे अच्छे सुधार वाला हवाई अड्डा. रखा यात्रियों के सुख सुविधा का पूरा ख्याल.

default

हर साल डेढ से ढाई करोड़ यात्रियों के प्रबंध की श्रेणी में आईजीआई को चौथा सबसे अच्छा एयरपोर्ट घोषित किया गया है जबकि इस श्रेणी में पहला नंबर अमेरिका के बाल्टीमोर एयरपोर्ट को मिला है. दूसरा पुरस्कार जो आईजीआई को मिला, वो है एशिया प्रशांत के देशों में सबसे अच्छे सुधारो वाला एयरपोर्ट. 50 लाख से डेढ़ करोड़ यात्रियों के प्रबंध की श्रेणी में हैदराबाद के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को पहला स्थान मिला है.

दुनिया भर में हवाई अड्डों की शीर्ष संस्था एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल (एसीआई) ने गुरुवार को नई दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट (आईजीआईए) को यह अवॉर्ड दिया. 36 अलग अलग पैमानों पर दुनिया भर के एयरपोर्टों को आंका गया जिसमें यात्रियों को सुविधा से लेकर हवाई अड्डों के बुनियादी ढांचे को आधार बनाया गया.

इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का पुरस्कार एयरपोर्ट के कार्यकारी अधिकारी पीएस नायर ने लिया. पुरस्कार लेने के बाद नायर का कहना था, "ये दो पुरस्कार हमारे लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा हैं. ये उपलब्धि एयरपोर्ट के सभी हिस्सेदारों की मेहनत और कोशिशों का परिणाम है. मैं सभी को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं. हमें पूरा विश्वास है कि जुलाई में चमक दमक से भरे टी3 टर्मिनल के शुरू होने के बाद हमारी रेटिंग में और सुधार आएगा."

दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी जीएमआर के सहयोग से बनाया गया है. 2006 में जीएमआर ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय के साथ सार्वजनिक और निजी साझेदारी के तहत काम शुरू किया था. जुलाई में शुरू होने वाले नए टी3 टर्मिनल की क्षमता सालाना तीन करोड़ 40 लाख यात्रियों के प्रबंध की होगी.

एसीआई दुनिया भर के एयरपोर्टों को एयरपोर्ट के कस्टम, आप्रवास, सुरक्षा, एयरपोर्ट का वातावरण, टर्मिनलों की सफाई, यात्रियों की संतुष्टि जैसे कई पैमानों पर आंकता है. एयरपोर्ट सर्विस की गुणवत्ता का ये सालाना अवॉर्ड काफी महत्वपूर्ण माना जाता है.

रिपोर्टः पीटीआई/आभा मोंढे

संपादनः एस गौड़