1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

दिन में पांच बार खाएं फल सब्जी

शाकाहारी लोगों के लिए एक अच्छी खबर है. दिन में कम से कम पांच बार फल और सब्जियां खाना उन्हें दीर्घायु बना सकता है. यानि अगर आप लंबे समय तक जीवन का आनंद लेना चाहते हैं, तो फल सब्जियों का सेवन बढ़ा दें.

फल सब्जियां मानव शरीर के लिए कितनी लाभकारी हैं, इस पर समय समय पर बहस होती रहती हैं. आयुर्वेद के अनुसार शरीर को स्वस्थ रखने के लिए इनका सेवन आवश्यक है. लेकिन पश्चिमी देशों में इनका सेवन काफी कम किया जाता है. सर्द मौसम के कारण कई देशों में कम ही फल सब्जियां उगती हैं. हालांकि वैश्वीकरण के कारण अब लगभग हर देश में हर प्रकार की खाद्य सामग्री उपलब्ध है. ऐसे में डॉक्टर भी अब लोगों को सलाह देने लगे हैं कि जितना हो सके, उतना ज्यादा फल सब्जियों का सेवन किया जाए.

विश्व स्वास्थ्य संगठन डब्ल्यूएचओ ने 2003 में निर्देश जारी किए कि लोगों को दिन में पांच बार फल सब्जी खाना चाहिए. लेकिन इस साल अप्रैल में ब्रिटेन के एक नए शोध ने पांच की जगह सात बार इनका सेवन करने की बात कही. अब एक ताजा शोध में इसकी जांच की गई है. वैज्ञानिकों ने पाया कि शरीर को जितना ज्यादा फल और सब्जियों से भरा आहार मिले, फायदा उतना ही बढ़ता रहता है. लेकिन पांच बार के बाद यह रुक जाता है. फिर चाहे आप सात बार ही क्यों ना खाएं, फायदा उतना ही मिलेगा जितना पांच बार में.

एक बार में कम से कम 80 ग्राम खाने की सलाह दी गयी है. 80 ग्राम मतलब एक सेब, या एक कटोरी सलाद या फिर सब्जी के तीन चम्मच. जानकार बताते हैं कि लोग ज्यादा से ज्यादा दिन में चार बार ही ऐसा कर पाते हैं और इसलिए उन्हें अपनी दिनचर्या बदलने की जरूरत है.

इस शोध के लिए चीन और अमेरिका के रिसर्चरों ने आठ लाख तीस हजार लोगों पर अध्ययन किया. 16 अलग अलग शोधों की मदद से इनके आंकड़े जमा किए गए. इन लोगों के चार से 26 साल के जीवन काल पर ध्यान दिया गया. शोध के दौरान 56,000 लोगों की मौत हो गई. इन सभी लोगों की खाने पीने की आदतों पर नजर डालने के बाद वैज्ञानिक इस नतीजे पर पहुंचे कि जो लोग आहार में फल सब्जियां ज्यादा ले रहे थे, उनकी उम्र अन्य लोगों से ज्यादा रही.

इन लोगों को दिल के दौरे का खतरा चार फीसदी कम रहा. साथ ही कैंसर का खतरा भी कम हुआ. लेकिन पांच बार से ज्यादा फल सब्जियों का सेवन करने वालों को कोई खास फायदा होता नहीं दिखा. शोध में सलाह दी गयी है कि डॉक्टर लोगों को इस बारे में जागरूक करें और खाने पीने के साथ ही कसरत के फायदे, धूम्रपान के नुकसान, शराब के सेवन और मोटापे के बारे में भी जानकारी दें.

आईबी/एएम (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री