1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

दादा सौरव मेरे छोटे भाईः शाह रुख

आईपीएल में सौरव गांगुली के दरवाजे बंद होने के बाद भारी नाराजगी के शिकार शाह रुख खान ने फिर सफाई दी है और सौरव गांगुली को अपना छोटा भाई तक बता दिया. हालांकि उनके पास जवाब नहीं कि छोटे भाई को टीम से क्यों निकाला.

default

कोलकाता, बंगाल और पूरे भारतीय क्रिकेट में सौरव गांगुली की इस दशा के लिए बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान को जिम्मेदार माना जा रहा है और उन्हें बार बार इसकी सफाई देनी पड़ रही है. शाह रुख एक बार फिर जब मीडिया से घिरे, तो कहने लगे कि उन्हें दादा से बात करनी है. शाहरुख ने कहा, "हम चाहते हैं कि हम पिछले तीन सालों से बेहतर करें और इस काम में ज्यादा मुश्किल नहीं होनी चाहिए क्योंकि हम बद से बदतर करते आए हैं. मैं हक से कह सकता हूं कि दादा भी यही चाहते होंगे और वह तो मेरे छोटे भाई जैसे हैं."

शाह रुख ने कहा कि कुछ कंफ्यूजन है और वह इतना जरूर कह सकते हैं कि दादा को न रखने का फैसला बेहद भारी दिल से लिया गया. "मैं उनसे बात करूंगा." शाहरुख ने बंगाल के लोगों के कोप से बचने के लिए बताया कि अब वह क्रिकेट से जुड़े फैसले नहीं लिया करते हैं. उन्होंने कहा, "मैं अब क्रिकेट के फैसले नहीं लेता हूं. इसके लिए टीम में खास थिंक टैंक है और वही क्रिकेट से जुड़े फैसले लेते हैं."

आईपीएल-4 शुरू होने से पहले ही कोलकाता की टीम विवादों में घिर गई है. इसके बाद भी शाह रुख लोगों से अपील कर रहे हैं कि उन्हें एक बार बिना विवाद के खेलने दें. किंग खान का कहना है, "हमारे दिल में है कि हम एक बार कोलकाता के लिए चैंपियनशिप जीतें. मेरे दिल में यह बात है. दादा के दिल में यह बात है और हम एकजुट होकर इसके लिए कोशिश करेंगे." शाहरुख ने कहा, "हमें एक मौका दीजिए कि हम बिना किसी विवाद के खेल सकें."

शाहरुख खान की कोलकाता नाइट राइडर्स ने सौरव गांगुली को टीम से बाहर कर दिया था, जिसके बाद आईपीएल की नीलामी में किसी ने उन पर बोली ही नहीं लगाई. इससे कोलकाता के लोग बेहद खफा हैं. शाहरुख इसके बाद कह चुके हैं कि कोलकाता की टीम दादा के बगैर पूरी नहीं होती और वह उन्हें टीम में किसी तरह शामिल करने की कोशिश करेंगे. हालांकि उन्होंने यह साफ नहीं किया है कि दादा खिलाड़ी के तौर पर टीम से जुड़ सकते हैं या मैनेजमेंट में.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः ए कुमार

DW.COM