1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दवा विवाद पर भारत और ईयू अधिकारी मिले

भारतीय दवाओं की खेप को कुछ यूरोपीय देशों में जब्त किए जाने पर उठे विवाद के हल के लिए सितंबर में यूरोपीय संघ और भारत के अधिकारियों के बीच बातचीत होगी. भारत ने डब्ल्यूटीओ में उठाया है मामला.

default

डब्ल्यूटीओ के मुख्यालय में हुई बातचीत

पहले दौर की बातचीत में केवल जानकारियों का लेनदेन हुआ है. दो महीने बाद होने वाली बैठक में यूरोपीय संघ से शिकायतों के बारे में पूछा जाएगा जिनकी वजह से दवाइयों की खेप को ज़ब्त किया गया है. एक भारतीय अधिकारी ने कहा है, "अगली बैठक में हम शिकायतों के स्रोत का पता लगाने का प्रयास करेंगे जिसकी वजह से खेपें ज़ब्त हुईं."

18.07.2006 projekt zukunft fragezeichen

यही है वह 'सवाल का निशान' जिसे आप तलाश रहे हैं. इसकी तारीख़20/08 और कोड 0101 हमें भेज दीजिए ईमेल के ज़रिए hindi@dw-world.de पर या फिर एसएमएस करें +91 9967354007 पर.

भारत ने डब्ल्यूटीओ में यूरोपीय संघ की शिकायत की है. भारत का आरोप है कि अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के लिए भेजी गई दवाइयों की खेप को यूरोपीय संघ में शामिल कुछ देशों ने बीच रास्ते में ही ज़ब्त कर लिया. इन दवाइयों के पेटेंट अधिकार भी भारत के पास ही हैं.

डब्ल्यूटीओ के नियम के मुताबिक दोनों पक्षों को एक दूसरे के बारे में जानकारियां देने के लिए कहा गया है जिससे कि विवादों को हल किया जा सके. अगर दोनों पक्ष आपसी बातचीत के जरिए विवाद सुलझाने में नाकाम रहते हैं तो मामले को डब्ल्यूटीओ की विवाद सुलझाने वाले समिति के पास भेजा जाएगा.

पिछले कुछ सालों में ऐसा कई बार हुआ जब किसी और देश को भेजी जा रही दवाइयों की खेप बीच रास्ते में यूरोपीय देशों ने जब्त कर ली. खासतौर से नीदरलैंड्स ने तो कई बार ऐसा किया. नीदरलैंड्स के अधिकारियों का कहना है कि ऐसा पेटेंट नियमों के उल्लंघन की वजह से किया गया. हालांकि भारत अभी भी अपने इस रुख पर कायम है कि दवाओं के पेटेंट अधिकार उसके पास हैं और किसी नियम को नहीं तोड़ा गया है. करीब 22 अरब अमेरिकी डॉलर के भारतीय दवा कारोबार में 45 फीसदी आय दवाओं के निर्यात से होती है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM