1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

दक्षिण अफ्रीकी पिचों से कैसा डरः धोनी

भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा है कि चैंपियंस लीग ट्वेंटी 20 के बाद भारतीय क्रिकेटर अब दक्षिण अफ्रीकी पिचों से नहीं डरते. धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स ने इस बार चैंपियंस लीग को अपने नाम किया.

default

जीते धोनी के धुरंधर

फाइनल में दक्षिण अफ्रीका की वॉरियर्स टीम को मात देने के बाद धोनी ने स्थानीय अखबार एफ्रीकांस के साथ बातचीत में कहा कि भारतीय क्रिकटरों के लिए दक्षिण अफ्रीकी पिच अब कोई अनोखी बात नहीं हैं. वह कहते हैं, "आईपीएल के दूसरे सीजन और अब चैंपियंस लीग के दौरान हमारे बहुत से खिलाड़ी यहां खेले हैं. इन पिचों पर खेलने का अनुभव बहुत बढ़िया रहा." भारतीय टीम इस साल के अंत में दक्षिण अफ्रीका का दौरा करेगी.

चेन्नई सुपर किंग्स में टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों मुरली विजय (294 रन) और सुरेश रैना ने अपनी धाक साबित की है. इसके अलावा स्पिनर रविचंद्रन अश्विन सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज के तौर पर उभरे. चैंपियंस लीग के दौरान उन्होंने 13 विकेट चटकाए. धोनी ने अश्विन को आक्रामक गेंदबाज बताया जो किसी भी चुनौती से निपट सकता है. वह कहते हैं, "वह बहुत ही शानदार गेंदबाज है जिसे ज्यादा मार्गदर्शन की जरूरत नहीं है. उसे पता है कि उससे क्या उम्मीदें हैं." धोनी कहते हैं कि अश्विन दक्षिण अफ्रीकी दौरे के लिए अहम खिलाड़ी हो सकते हैं.

रविवार को चैंपियंस लीग में खिताबी जीत के बाद 1 करोड़ 70 लाख रैंड की रकम पाने के बाद भी धोनी मायूस नजर आते हैं. उन्हें मलाल इस बात का है कि आईपीएल के अगले सीजन में उनकी चेन्नई सुपरकिंग्स के कुछ खिलाड़ी अलग अलग टीमों का हिस्सा होंगे. जल्द ही खिलाड़ियों के लिए आईपीएल की बोली लगने वाली है. धोनी कहते हैं, "तीन साल तक साथ रहने के बाद अब कुछ खिलाड़ी दूसरी टीमों का हिस्सा बन जाएंगे. इसीलिए हम इस टूर्नामेंट को जीतना चाहते थे. हम पिछले तीन साल एक साथ खेलने के लिए शुक्रिया अदा करना चाहते थे."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः आभा एम

DW.COM

WWW-Links