1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

थरूर की किस्मत का फैसला आज !

आईपीएल की कोच्चि फ्रैंचाइजी के स्वामित्व को लेकर विवाद में घिरे विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर आज प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलेंगे और उन्हें इस मुद्दे पर अपनी सफाई देंगे. विपक्ष थरूर की बर्खास्तगी की मांग कर रहा है.

default

विवादों में घिरे शशि थरूर

मनमोहन और थरूर की मुलाकात के बाद कांग्रेस के कोर ग्रुप की बैठक भी होगी जिसमें थरूर को सरकार में बनाए रखने या न रखने के बारे में कोई फैसला किया जा सकता. समझा जाता है कि थरूर खुद पर लगे आरोपों के बारे में प्रधानमंत्री को अपना रुख बता चुके हैं. थरूर पर आरोप है कि उन्होंने कोच्चि फैंचाइजी में हिस्सेदारी दिलाने के लिए अपनी दोस्त सुनंदा पुष्कर की मदद की.

पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई वाला कांग्रेस कोर ग्रुप प्रधानमंत्री निवास पर बैठक करेगा जिसमें थरूर के भाग्य का फैसला होगा. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शनिवार को ही विदेश यात्रा से लौटे हैं. कोर ग्रुप में वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी, रक्षा मंत्री एके एंटनी, गृह मंत्री पी चिदंबरम और कांग्रेस अध्यक्ष के सचिव अहमद पटेल भी शामिल है. पार्टी से जुड़े सभी बड़े मुद्दों पर कांग्रेस का कोर ग्रुप ही फैसला लेता है.

वैसे कांग्रेस यह कहकर पहले ही थरूर विवाद से खुद को अलग कर चुकी है कि इस बारे में उन्हें ही स्पष्टीकरण देना है. थरूर इस मुद्दे पर संसद में अपनी सफाई दे चुके हैं लेकिन उसके बाद भी कांग्रेस के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है. विवाद इस बात को लेकर है कि कोच्चि फ्रैंचाइजी में हिस्सेदारी हासिल करने के लिए थरूर की दोस्त सुनंदा पुष्कर के पास 70 करोड़ रुपये की बड़ी रकम कहां से आई. थरूर इस सिलसिले में किसी भी तरह अपने पद के दुरुपयोग से इनकार करते हैं.

उधर विपक्ष इस बात पर अड़ा है कि 54 वर्षीय थरूर को पद से हटाया जाए क्योंकि उन्होंने अपनी दोस्त के फायदे के लिए पद का गलत इस्तेमाल किया. एलके आडवाणी और प्रकाश करात जैसे नेता भी थरूर की बर्खास्तगी की मांग कर रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संबंधित सामग्री