1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

तोहफा है बायर्न का कोच होना

जर्मनी की फुटबॉल टीम बायर्न म्यूनिख ने औपचारिक रूप से पेप गुअर्डियोला को कोच के तौर पर पेश किया. टीम को उम्मीद है कि नए कोच के साथ भी उनका वर्चस्व बना रहेगा.

बार्सिलोना के कोच रह चुके गुअर्डियोला ने कहा कि जिस टीम ने बढ़िया सीजन खेला हो उसका कोच होना चुनौती से तो भरा है ही. युप हाइकेंस के साथ टीम ने राष्ट्रीय लीग और कप तो जीता ही चैंपियंस लीग का खिताब भी अपने नाम कर लिया.

संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, "मुझे तुलना तो स्वीकार करनी ही होगी. मैं उसके साथ जी सकूंगा. निश्चित ही मैं दबाव में हूं और बिना डर के मैं यह चुनौती स्वीकार करता हूं इसलिए मैं कोच हूं."

गुअर्डियोला ने बार्सिलोना के साथ 14 ट्रॉफियां जीती हैं. 2012 में स्पैनिश लीग को छोड़ने के बाद वह अधिकतर समय न्यूयॉर्क में ही थे. "मुझे बायर्न के साथ आना अब तोहफे, आशीर्वाद जैसा लगता है. मैं इसका कोच हूं ये सोचना ही मेरे लिए गिफ्ट है."

(जर्मन बोलेंगे गुअर्डियोला)

उन्होंने यह भी बताया कि वह तीन साल बायर्न के साथ रहेंगे. "कभी कभी आप नीचे जा रही टीम के कोच बनकर आते हैं जैसे कि मेरा पहला केस था. लेकिन यह स्थिति बिलकुल ही अलग है. अच्छी है लेकिन अलग है. मैं अब ऐसी टीम में आया हूं जिसने लास्ट सीजन में शानदार खेल दिखाया है. तीन टाइटल उन्होंने जीते हैं. यह मुद्दा है. जब आप बायर्न के कोच हो तो आपके सामने हमेशा अच्छा खेलने का दबाव है."

एएम/एनआर (डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM