1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

'तेरे बिन लादेन' पाकिस्तान में नहीं होगी रिलीज

पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने हमलों की आशंका के चलते भारतीय फिल्म 'तेरे बिन लादेन' को अपने यहां रिलीज करने की मंजूरी नहीं दी है. फिल्म में पाकिस्तानी गायक अली जफर ने भी अभिनय किया है. यह फिल्म 16 जुलाई को रिलीज होगी.

default

लादेन पर कॉमेडी

पाकिस्तान के सेंसर बोर्ड ने फिल्म को रिलीज करने की अनुमति नहीं दी है क्योंकि इसमें अल कायदा के मुखिया ओसामा बिन लादेन को मुख्य किरदार बनाया गया है. बोर्ड ने मंगलवार को फिल्म देखने के बाद यह फैसला लिया है. बोर्ड के उपाध्यक्ष मसूद इलाही ने बताया, "मौजूदा हालात में इस फिल्म को पाकिस्तान में रिलीज नहीं किया जा सकता है."

सूत्रों का कहना है कि आंतकवादी हमलों की आशंका को देखते हुए फिल्म को रिलीज की मंजूरी नहीं दी गई है. इलाही ने बताया कि संघीय संस्कृति सचिव अपने विशेष अधिकारों के तहत फिल्म को दिखाने का अधिकार रखते हैं. इस फिल्म से पाकिस्तान के मशहूर गायक अली जफर ने बॉलीवुड में शुरुआत की है. अभिषेक शर्मा के निर्देशन में बनी इस फिल्म में जफर एक पत्रकार की भूमिका में हैं.

पाकिस्तान में हमलों और उग्रवादी गुटों की तरफ से होने वाली तीखी प्रतिक्रिया से बचने के लिए डिस्ट्रीब्यूटर फिल्म के नाम में से लादेन शब्द निकालने के बारे में भी सोच रहे थे और इसे पाकिस्तान में सिर्फ "तेरे बिन" के नाम से रिलीज करना चाहते थे. लेकिन बोर्ड ने इस फिल्म को हरी ही नहीं दी है.

पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड के फैसले से जफर निराश हैं. उन्होंने पाकिस्तान अधिकारियों से अपने फैसले पर फिर से विचार करने की अपील की है. उनके मुताबिक इस फिल्म में कुछ भी विवादास्पद नहीं है. बॉलीवुड स्टार सलमान खान और निर्देशक करण जौहर ने इस फिल्म को देखने के बाद जफर के काम की तारीफ की है.

इस कॉमेडी फिल्म में कराची के एक पत्रकार को दिखाया गया है जो अमेरिका में बसने के लिए बहुत उतावला है. लेकिन बार बार कोशिश के बावजूद उसे अमेरिका का वीजा नहीं मिलता है. फिर उस पत्रकार को लादेन के जैसा दिखने वाले एक व्यक्ति मिलता है. इसके बाद वे दोनों मिल कर लादेन के नाम से फर्जी वीडियो बनाते हैं और दुनिया भर के चैनलों को उन्हें बेचते हैं. लेकिन परेशानी तब आती है जब व्हाइट हाउस भी इस मामले में शामिल हो जाता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः आभा एम

संबंधित सामग्री