1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

तेंदुलकर को पीछे छोड़ सकते हैं पोंटिंग

रिकी पोंटिंग भले ही खराब फॉर्म में हों, उनके करियर और नेतृत्व पर सवाल उठ रहे हों, लेकिन पूर्व साथी खिलाड़ी ग्लेन मैकग्रा को उन पर पूरा भरोसा है. मैकग्रा को उम्मीद है कि सबसे ज्यादा रनों का रिकॉर्ड पोंटिंग के नाम ही होगा.

default

ग्लेन मैकग्रा मानते हैं कि टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में पोंटिंग सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड को तोड़ देंगे. सचिन तेंदुलकर ने 176 टेस्ट मैचों में 14, 352 रन बनाए हैं जबकि पोंटिंग के नाम 152 मैचों में 12, 363 रन हैं. पोंटिंग ने टेस्ट क्रिकेट में अब तक 39 बार सैकड़ा जड़ा है जबकि तेंदुलकर शतकों का अर्धशतक बना चुके हैं. रिकी पोंटिंग की उम्र 36 साल है जबकि सचिन तेंदुलकर 37 साल के हैं.

Der indische Cricketstar Sachin Tendulkar

ग्लेन मैकग्रा मानते हैं कि टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड तो पोंटिंग के ही नाम होगा. वह कहते हैं, "मुझे पोंटिंग में हमेशा से काफी भरोसा रहा है. एक कप्तान के साथ साथ एक व्यक्ति के रूप में भी. मैं हफ्ते के किसी भी दिन उनकी कप्तानी में खेल सकता हूं. मैं उनमें अब भी विश्वास रखता हूं. मैंने हमेशा महसूस किया है कि क्रिकेट जगत के इतिहास में सबसे ज्यादा रन का रिकॉर्ड उन्हीं के नाम होगा."

मैकग्रा के मुताबिक फिलहाल सचिन पोंटिंग की पहुंच से दूर जरूर दिखाई देते हैं लेकिन उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही वह अपनी खराब फॉर्म से उबर आएंगे. वैसे दोनों खिलाड़ी इस समय अपने करियर के बेहतरीन और बदतरीन दौर से गुजर रहे हैं. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में 50वां शतक ठोंकने वाले तेंदुलकर करियर के शीर्ष पर हैं तो पोंटिंग एशेज में ऑस्ट्रेलियाई टीम की करारी हार से सदमे में हैं.

लेकिन मैकग्रा ऑस्ट्रेलिया का पुरजोर समर्थन करते हुए ऑस्ट्रेलिया के सुनहरे दिनों की याद दिलाते हैं. "ज्यादा समय नहीं हुआ जब ऑस्ट्रेलिया एक बेहद मजबूत टीम थी और वर्ल्ड क्रिकेट के लिए वह अच्छा नहीं था. यह हमेशा ऐसे ही होता है, सभी टीमों का अच्छा और खराब दौर आता है. मुझे अपने खिलाड़ियों में पूरा भरोसा है कि वे फिर शीर्ष पर पहुंचने में कामयाब होंगे." वैसे मेलबर्न टेस्ट में पारी और 157 रन की हार झेलने और एशेज इंग्लैंड के पास रहने से वह निराश जरूर हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

DW.COM