1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तीसरा दिनः भारत ने बनाए 435 रन

सचिन तेंदुलकर और मुरली विजय के शानदार शतकों की बदौलत भारत ने तीसरे दिन 400 का स्कोर पार कर लिया. सचिन 191 रन पर खेल रहे हैं.

default

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी

खेल का तीसरा दिन भारतीय बल्लेबाजों और खासतौर पर सचिन तेंदुलकर के नाम रहा. वह अपने दोहरे शतक से 9 रन दूर हैं. दिनभर में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज कुल तीन विकेट ले पाए.

दिन का आखिरी विकेट सुरेश रैना के रूप में गिरा. उन्होंने 32 रन बनाए. इससे पहले मुरली विजय 139 रन बनाकर आउट हो गए. उन्हें मिचेल जॉनसन की गेंद पर टिम पेन ने लपका. 310 गेंदों की अपनी पारी में विजय ने 2 छक्कों और 14 चौकों की मदद से पहली टेस्ट सेंचुरी लगाई. भारत का यह तीसरा विकेट गिरा. तब भारत का स्कोर 346 रन हो गया. सचिन और विजय ने साझेदारी में 300 से ज्यादा रन जोड़े.

इसके बाद आए चितेश्वर पुजारा को भी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने जल्दी लपेट लिया. उन्होंने कुल चार ही रन बनाए. मिचेल जॉनसन ने उन्हें एलबीडबल्यू आउट किया.

भारत ने दूसरे दिन के स्कोर 2 विकेट पर 128 रन से आगे खेलते हुए चाय के वक्त तक 314 रन बना लिए हैं. इसके लिए उसे एक भी विकेट और नहीं गंवाना पड़ा.

इससे पहले मुरली विजय ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला शतक पूरा किया. बैंगलोर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्होंने 100 रन पूरे किए. सचिन ने उन्हें शाबाशी दी.

सचिन तेंदुलकर और मुरली विजय के शतकों की बदौलत भारत पहली पारी में मजबूत होता जा रहा है. जब विजय का शतक पूरा हुआ तब भारत का स्कोर 276 रन हो गया था. सचिन 128 रन बनाकर उनका साथ दे रहे थे.

इससे पहले लंच के बाद भारत का स्कोर 250 के पार पहुंच गया. तीसरे दिन का लंच तक का खेल पहले दो दिनों जैसा ही रहा. इसमें एक भी विकेट नहीं गिरा और काफी रन बने. भारत ने दूसरे दिन के स्कोर 2 विकेट पर 128 रन से आगे खेलना शुरू किया. दिन की तीसरी ही गेंद पर सचिन ने चौके के साथ अपना अर्धशतक पूरा किया. इसके लिए उन्होंने 91 गेंदों का सामना किया और 8 चौके लगाए.

इसके साथ ही तीसरे विकेट के लिए सचिन और मुरली की 100 रन की साझेदारी भी पूरी हुई. तब मुरली विजय 39 रन पर पहुंच गए थे. कुछ ही देर बाद मुरली ने अपना अर्धशतक भी पूरा कर लिया.

भारतीय बल्लेबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को एक भी मौका नहीं दिया जिसका वे फायदा उठा सकें. हालांकि जिस तरह से पहले दोनों दिन का खेल एक जैसा रहा, वैसा ही अगर तीसरे दिन भी होता है तो भारत को सावधान रहना होगा. पहले दोनों दिन लंच तक एक भी विकेट नहीं गिरा और उसके बाद लगातार विकेट गिरे. भारत और ऑस्ट्रेलिया के स्कोर में अभी भी 200 से ज्यादा रनों का फर्क बना हुआ है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः उज्ज्वल भट्टाचार्य

DW.COM

WWW-Links