1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

तिरंगा मुद्दे पर सकार ने घुटने टेकेः आडवाणी

जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक पर तिरंगा फहराने के मुद्दे पर बीजेपी ने केंद्र सरकार को भी लपेटे में ले लिया और कहा कि वह अलगाववादियों के सामने घुटने टेक रही है.

default

वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी ने अपने ब्लॉग में लिखा, "अगर तार्किक नजरिए से देखा जाए तो वे लोग शांति भंग कर रहे हैं, जिन्होंने एलान किया है कि तिरंगे को लाल चौक पर नहीं फहराने दिया जाएगा. उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए. और निश्चित तौर पर उन लोगों के खिलाफ नहीं, जिन्होंने कहा है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से लाल चौक पर तिरंगा फहराना चाहते हैं."

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान की ओर इशारा करते हुए आडवाणी ने कहा कि बीजेपी युवा मोर्चा के लोग कोई राजनीतिक फायदा नहीं उठाना चाहते हैं, बल्कि वे तो अलगाववादियों को चुनौती देना चाहते हैं. बीजेपी नेता ने लिखा, "और सरकार उनके सामने समर्पण कर रही है." प्रधानमंत्री सिंह ने कहा है कि गणतंत्र दिवस के मौके का राजनीतिक फायदा नहीं उठाना चाहिए.

Kaschmir Kashmir Proteste Demonstration Muslime Indien Polizei

पिछले साल मई में कश्मीर

आडवाणी ने राज्य सरकार के फैसले को एक विकृत निर्णय बताते हुए कहा कि सरकार को समझना चाहिए कि वह अपने अधिकारियों के लिए कितने शर्म का काम कर रही है. जम्मू कश्मीर सरकार ने कहा है कि वह बीजेपी कार्यकर्ताओं को लाल चौक पर तिरंगा नहीं फहराने देगी.

भारत के उप प्रधानमंत्री रह चुके आडवाणी ने जिक्र किया है कि किस तरह पिछले साल ईद के दिन अलगाववादियों ने लाल चौक पर पाकिस्तान का झंडा फहरा दिया था. उन्होंने कहा कि जब वहां पाकिस्तान का झंडा फहर सकता है तो फिर भारतीय तिरंगा क्यों नहीं.

इस बीच, बीजेपी नेता अरुण जेटली ने भी इस मुद्दे पर सरकार पर निशाना साध दिया है. जेटली ने कहा, "सरकार ने भारतीय युवा मोर्चा के सदस्यों को गिरफ्तार किया है. उन्होंने जम्मू कश्मीर की नाकेबंदी कर दी है. यह अस्वीकार्य है. अलोकतांत्रिक है."

जेटली ने प्रधानमंत्री के बयान को भी आड़े हाथों लिया और कहा कि वह कैसे सोच सकते हैं कि भारत के राष्ट्रीय ध्वज को फहराने से राष्ट्र बंटेगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः एमजी

DW.COM

WWW-Links