1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तालिबान का नाटो हवाई अड्डे पर हमला

आत्मघाती हमलावरों ने अफगानिस्तान में अमेरिका के एक बड़े सैन्य हवाई अड्डे पर हमला किया है. आतंकवादियों सहित कम से कम 12 लोग मारे गए हैं. 2014 में अंतरराष्ट्रीय सेना के निकलने से पहले वहां की हालत बिगड़ती दिख रही है.

स्थानीय पुलिसकर्मियों ने बताया कि अफगान पुलिस के यूनिफॉर्म वाली लाशें जलालाबाद के अमेरिकी हवाई अड्डे के बाहर फैली हुई थीं. तालिबान ने रविवार को सुबह छह बजे हमला किया. अफगान सैनिकों और नाटो सेना के साथ तालिबान के बीच लड़ाई करीब दो घंटे चली. मारे गए लोगों में तालिबानी लड़ाके भी हो सकते हैं क्योंकि वे पुलिस की यूनिफॉर्म पहनकर भी हमला करते हैं. अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि जलालाबाद बेस पर रॉकेट हमले किए गए और फिर वहां आत्मघाती हमलावर पहुंचे. हमले की जिम्मेदारी तालिबान ने ली है. तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने एक संदेश में हमले की जिम्मेदारी ली है.

स्थानीय सरकार के प्रवक्ता नासिर अहमद सफी ने कहा कि दो आत्मघाती हमलावरों ने अपने खुद को अपनी गाड़ी में उड़ा लिया. अफगान सेना के साथ झड़प में सात और हमलावर मारे गए. नाटो के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय सेना के प्रवक्ता मेजर मार्टिन क्राइटन ने कहा कि हमले में कई आत्मघाती हमलावर शामिल थे. कई अंतरराष्ट्रीय सैनिक भी घायल हुए हैं.

अमेरिका और अफगान सरकार 2014 तक देश में सुरक्षा स्थिति को स्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं. अफगानिस्तान में कई लोगों का मानना है कि सुरक्षा कर्मी अंतरराष्ट्रीय सेना के देश से निकलने के बाद सुरक्षा को कायम रख सकेंगे. कुछ लोगों का मानना है कि देश में गृहयुद्ध जैसी स्थिति भी पैदा हो सकती है. लेकिन राष्ट्रपति करजई का कहना है कि अफगान सेना देश की रक्षा करने की हालत में है. इस साल फरवरी में एक आत्मघाती हमलावर ने नाटो और अमेरिकी सैन्य ठिकाने पर हमला किया था जिसमें नौ लोग मारे गए.

एमजी/एएम(रॉयटर्स, डीपीए)

DW.COM