1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तबाही के बाद कर्फ्यू

फिलीपींस सरकार ने तूफान से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर ताकलोबान में रात का कर्फ्यू लगा दिया है. आपदा के बाद शहर में लूट पाट की घटनाओं को रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल और सेना के जवान में तैनात किए गए हैं.

एक रेडियो स्टेशन से बात करते हुए फिलीपींस के गृह मंत्री मार रोखास ने कहा कि ताकलोबान में रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाया गया है. बड़ी संख्या में तैनात पुलिस कर्मियों और सेना के जवानों को शहर में गश्त के आदेश भी दिए गए हैं. गृह मंत्री ने कहा, "हम उन्हें गश्त करा रहे हैं ताकि लोग उन्हें देख सकें, खासकर वो लोग जिनके इरादे खराब हैं."

दो लाख बीस हजार की आबादी वाले ताकलोबान शहर पर चक्रवाती तूफान हैयान की सबसे ज्यादा मार पड़ी. सिर्फ ताकलोबान में ही दस हजार से ज्यादा लोगों की मौत होने की आशंका है. राहत अभियान के बीच अराजक तत्व लूट पाट भी कर रहे हैं. पुलिस को ऐसी कई रिपोर्टें मिली हैं कि गैंग छोटी मोटी दुकानों से टेलीविजन और फ्रिज जैसी चीजें चुरा रहे हैं. कुछ राहत संगठनों ने भी लूट पाट की कोशिश की जानकारी पुलिस को दी है.

इन घटनाओं के सामने आने के बाद सरकार ने सैकड़ों जवानों को राहत कार्य के बजाए कानून व्यवस्था बनाए रखने में लगा दिया है. गृह मंत्री रोखास के मुताबिक, "पुलिस बल, सेना और सरकार की मौजूदगी निश्चित रूप से हालत बेहतर करेगी, लेकिन ये रातों रात नहीं होगा."

Philippinen Taifun Haiyan 12.11.2013

लाखों लोग बेघर

कर्फ्यू के बारे में उन्होंने कहा, "ये एक ऐसा उपाय है जिसके इस्तेमाल से हम लूट पाट और चोरी कम कर सकते हैं. हम जानते हैं कि इसकी वजह से कुछ लोग घर नहीं लौट सकते. लेकिन फिलहाल कुछ घूमते फिरते गैंग मौके की तलाश में हैं."

यह साफ नहीं हुआ है कि कर्फ्यू के दौरान बेघर लोग कहां रहेंगे. इस बीच सरकार ने ताकलोबान में एक मुख्य हाईवे को सिर्फ राहत कार्य के लिए खोला है. रोखास के मुताबिक सरकार तीन बातों को प्राथमिकता दे रही है, कानून व्यवस्था, राहत कार्य और शवों की शिनाख्त. अब तक डेढ़ हजार से ज्यादा लोगों के शव बरामद किए गए हैं. सरकार के मुताबिक हैयान तूफान ने फिलीपींस की 10 फीसदी आबादी यानी करीब एक करोड़ लोगों को प्रभावित किया है.

आपदा की इस घड़ी में फिलीपींस तक लगातार अंतरराष्ट्रीय मदद पहुंच रही है. ब्रिटेन और अमेरिका ने राहत सामग्री से लदे नौसैनिक जहाज भी मदद के लिए भेजे हैं. वहीं जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, जापान, न्यूजीलैंड, यूरोपीय संघ, इंडोनेशिया और दक्षिण कोरिया से भी मदद और बड़ी संख्या में स्वयंसेवी फिलीपींस पहुंच रहे हैं.

ओएसजे/एएम (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM