1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तनाव के बीच कोरिया में जॉन केरी

अमेरिकी विदेश मंत्री दक्षिण कोरिया के दौरे पर आए हैं. यह कहना मुश्किल है कि उनकी मौजूदगी इलाके के हालात बेहतर करेगी या तनाव और बढ़ जाएगा. जानकारों को आशंका है कि कहीं इसी बीच मिसाइल हमला न हो जाए.

एक बड़ा खतरा 15 अप्रैल को लेकर भी है, उत्तर कोरिया के संस्थापक किम इल सुंग का 101वां जन्मदिन इसी दिन है. आशंका है कि इस मौके पर अपनी सैन्य ताकत का प्रदर्शन करने के साथ ही उत्तर कोरिया कोई उकसावे वाली हरकत कर सकता है. पूर्वी एशिया में चार दिन के दौरे पर आए जॉन केरी की योजना चीन और जापान जाने की भी है लेकिन वहां भी बातचीत के केंद्र में उत्तर कोरिया ही रहेगा. उत्तर कोरिया लगातार इस कोशिश में है कि उसके उकसावे की कार्रवाइयों पर पूरी दुनिया का ध्यान जाए, खासतौर से अमेरिका और दूसरे ताकतवर देशों का. ऐसे में केरी की सियोल में मौजूदगी प्योंग्यांग लिए ऐसा मौका बन सकता है जिसकी वह ताक में है. हालांकि अमेरिका चीन के साथ कूटनीतिक स्तर पर बहुत सक्रियता से उत्तर कोरिया के मामले में बातचीत कर रहा है और तनाव घटाने की हर कोशिश में है.

केरी के दौरे से ठीक पहले अमेरिकी रक्षा विभाग को एक रिपोर्ट से पता चला है कि उत्तर कोरिया परमाणु हमला करने में सक्षम है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर कोरिया बैलिस्टिक मिसाइल पर परमाणु हथियार लगाने लायक तकनीकी क्षमता हासिल कर चुका है. गुरुवार को वाशिंगटन में संसदीय सुनवाई के दौरान पेंटागन के खुफिया विभाग ने 'यकीन' जताया है कि उत्तर कोरिया के पास परमाणु हमला करने की ताकत है. हालांकि इसमें यह भी कहा गया है कि इन हथियारों पर बहुत ज्यादा भरोसा नहीं किया जा सकता. खुफिया विभाग के निदेशक ने बताया कि रिपोर्ट पेंटागन की रक्षा खुफिया एजेंसी ने तैयार किया है और यह अमेरिका की सारी खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट नहीं है.

इस बीच राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गुरुवार को शांति की अपील करते हुए उत्तर कोरिया से उकसावे की हरकतें बंद करने को कहा है. इसके साथ ही राष्ट्रपति ने अमेरिकी नागरिकों की रक्षा के लिए हर जरूरी कदम उठाने की भी बात कही. अमेरिकी के विदेश मंत्री के रूप में जॉन केरी पहली बार एशिया प्रशांत के दौरे पर आए हैं. अमेरिका इन दिनों अपनी ताकत का केंद्र यूरोप और मध्यपूर्व से हटा कर दुनिया के सबसे ज्यादा आबादी और तेज आर्थिक विकास वाले इलाके में ले जाने की तैयारी में है.

केरी के दौरे की योजना बहुत पहले बन गई थी और तब मौजूदा तनाव और अस्थिरता वाले हालात की आशंका नहीं थी. अब इन आशंकाओं ने पूर्वी एशिया के बाकी मुद्दों को पीछे छोड़ दिया है. ओबामा प्रशासन मान रहा है कि उत्तर कोरिया एक और मिसाइल परीक्षण की तैयारी कर कर रहा है. केरी के साथ दौरा कर रहे विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "हम अपने सहयोगियों को दिखा देंगे कि हम तैयार हैं और हम उनकी रक्षा करेंगे." हालांकि उत्तर कोरिया से संभावित खतरे को दूर करने में केरी प्रमुख रूप से चीन की बड़ी भूमिका पर भरोसा कर रहे हैं. अमेरिका चाहता है कि चीन उत्तर कोरिया पर दबाव डाल कर परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम को बंद करवा दे, हालांकि पिछले दो दशकों में यह कोशिश परवान नहीं चढ़ सकी है. उत्तर कोरिया के साथ चीन के रिश्ते अच्छे हैं. चीन ने यहां कारोबार को बढ़ावा दिया है और वह इस अकेले पड़े देश के साथ सैन्य सहयोग भी बड़े स्तर पर जारी रखे हुए है. अमेरिका को यकीन है कि चीन के पास उत्तर कोरिया के उकसावों पर लगाम लगाने के लिए कई उपाय हैं.

एनआर/ओएसजे ( एपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री