1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

ढाका के किसान ने सिला सबसे लंबा जर्मन झंडा

फुटबॉल के दीवानों की दुनिया में कोई कमी नहीं. बांग्लादेश में एक दीवाने ने जर्मनी की टीम के लिए साढ़े तीन किलोमीटर लंबा झंडा सिला, इतना ही नहीं इसके लिए उन्होंने अपनी खेती की जमीन भी बेच दी.

वैसे तो बांग्लादेश फुटबॉल वर्ल्ड कप की दौड़ में है ही नहीं, लेकिन पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में फुटबॉल के दीवानों की कमी नहीं. यही बात एक बार फिर साबित की एक किसान ने, 3.5 किलोमीटर लंबा जर्मन झंडा सिल कर.

जर्मन टीम के समर्थन में ढाका के 65 वर्षीय किसान अमजद हुसैन ने सिला हुआ साढ़े तीन किलोमीटर लंबा जर्मन ध्वज मागुरा के स्टेडियम में लगाया गया. अमजद हुसैन को सम्मान देने के लिए जर्मनी के कार्यवाहक राजदूत फर्डिनांड फॉन वाहे भी मागुरा पहुंचे. ढाका में जर्मन दूतावास की प्रवक्ता इशरत हुसैन ने बताया, "साढ़े तीन किलोमीटर लंबा झंडा स्टेडियम पर चार बार लपेटा गया. ये देखने के लिए कई फैंस वहां पहुंचे." उन्होंने यह भी बताया कि फॉन वाहे ने 65 साल के अमजद हुसैन को जर्मन राष्ट्रीय टीम की आजीवन सदस्यता भी प्रदान की साथ ही टीम की जर्सी और प्रशंसा पत्र भी.

किसान ने एएफपी समाचार एजेंसी को बताया कि वह जर्मनी के फैन तब से बने हैं, जब से जर्मनी में बनी होमियोपैथी की दवा के कारण उनकी पित्ताशय की पथरी गल गई. उन्होंने बताया, "मैंने ये झंडा 2006 के वर्ल्ड कप के बाद बनाना शुरू किया था. इसे 2010 वर्ल्ड कप में बढ़ाया और इस बार के विश्व कप के दौरान मैंने इसमें और कपड़ा जोड़ा. " इतना ही नहीं गरीब हुसैन ने दो लाख चालीस हजार टके वाले इस झंडे के लिए अपनी जमीन भी बेच दी. उन्हें पहले से ही उम्मीद थी कि जर्मनी जीतेगा. अधिकतर बांग्लादेशी ब्राजील और अर्जेंटीना की टीमों का समर्थन कर रहे थे और कई लोगों के घरों पर इन टीमों के झंडे लटके हुए भी देखे जा सकते थे.

एएम/ओएसजे (एएफपी, डीपीए)

DW.COM