1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

डॉक्टर को मिलेगी पल पल की खबर

समय पर डॉक्टरी देखभाल न मिलने से कितने ही लोगों की मौत हो जाती है. लेकिन अब खास सेंसर तैयार किया गया है जिसके जरिए रोगी के पल पल की जानकारी डॉक्टरों को मिल सकती है. मेडिका मेले में आया यह सेंसर.

default

60 देशों के 4400 प्रदर्शकों के साथ चिकित्सा शास्त्र का मेला मेडिका विश्व में अपनी तरह का सबसे बड़ा मेला है. पिछले दिनों ड्युसलडोर्फ में मेले के 17 हॉलों में चिकित्सा के क्षेत्र में नए आविष्कारों का परिचय मिला. एक क्षेत्र में नई तकनीक तेजी से आगे बढ़ रही है, जिसे चिकित्सा शास्त्र की भाषा में इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोटेक्निक कहा जाता है. रोगी के शरीर में या अकेले रहने वाले वयोवृद्ध रोगियों के फ्लैटों में सेंसर लगाए जाते हैं, जिनसे डॉक्टर या बचावकर्मियों को रोगी की हालत के बारे में तुरंत पता चलता है.

Flash-Galerie Medica 2010

मोविसेंस कंपनी के योएर्गे ओट्टेनबाखर एक सेंसर दिखाते हैं, जो हाल में ही बनाया गया है. इससे पता चल जाता है कि कितनी तेजी के किसी का दिल धड़क रहा है, वह कैसे घूम फिर रहा है, वह कहां है. ब्लूटूथ के जरिए ये आंकड़े स्मार्टफोन में भेजे जाते हैं. डॉक्टर को अपने आप मोबाइल पर आंकड़े मिलते हैं. अगर उन्हें लगे कि कहीं कुछ गड़बड़ है, तो वे तुरंत फोन करते हैं और रोगी की मदद की व्यवस्था की जा सकती है. कैसे सवाल किए जाते हैं? योएर्ग ओट्टेनबाखर बताते हैं, "मिसाल के तौर पर वह क्या कर रहा है, क्या तनाव की कोई वजह है, वह अकेला है या साथ में कोई है. यानी ऐसे सवाल, जिनसे रोगी की हालत का पता चल सके. इससे फायदा यह है कि पहले से तय किए गए समय पर नहीं, बल्कि चिकित्सा की दृष्टि से महत्वपूर्ण घड़ी में रोगी की हालत की जानकारी मिलती है."

ये आंकड़े और रोगियों के जवाब डॉक्टर को, यूं कहा जाए कि लाइव मिल जाता है. उन्हें किसी रिपोर्ट का इंतजार नहीं करना पड़ता और वह तुरंत कदम उठा सकता है. अभी तक डॉक्टरों को यह सिस्टम नहीं भेजा जा रहा है, सिर्फ साइकोलॉजिस्ट, स्पोर्टस मेडिसीन के लोग, या फूड स्पेशलिस्ट इस पर प्रयोग कर रहे हैं. लेकिन ऐसे सेंसर उनके काम आ सकते हैं, जो बुजुर्ग हैं या जिन्हें दिल की बीमारी है. इसे रोगी के शरीर में लगाने की भी जरूरत नहीं पड़ती. फर्श पर भी इसे लगाया जा सकता है. फर्श पर क्यों? कार्ल्सरुएहे के टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट के रोलांड गोएरलित्ज कहते हैं, "ऐसे रोगियों के लिए गिर पड़ना काफी मुमकिन है और यह एक बड़ी समस्या है. बहुत से रोगियों के पास ऐसे सेंसर होते हैं, लेकिन जब वे गिर पड़ते हैं तो यह उनके पास नहीं होता और डॉक्टर को पता नहीं चलता. फर्श पर सेंसर लगाने से अगर रोगी अपने घर में गिर पड़े तो तुरंत पता चल सकता है और इमरजेंसी की घंटी बजने लगती है. पड़ोसियों को पता लगाकर डॉक्टर बुलाने की ज़रूरत नहीं रहती."

DW.COM