1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

फीडबैक

डॉक्टरों की 'घसीट लिपि' पर सवाल

आइए एक बार फिर से देखें, आप पाठकों ने डीडब्ल्यू हिंदी को क्या कुछ लेख भेजा है.

आज की वेबसाइट के 'दुनिया' शीर्षक प्रतिवेदन में '´और सहयोग संगठन के देशों के 50 विदेश मंत्रियों के सम्मेलन के बारे में विस्तृत जानकारी मिली. इससे पहले इस संगठन के बारे में हमें बहुत कम जानकारी थी. मुझे लगता है कि यूरोपीय सुरक्षा और सहयोग संगठन हथियार नियंत्रण, आत्मविश्वास और सुरक्षा के उपाय, मानव अधिकार, लोकतंत्रीकरण, आतंकवाद का मुकाबला करने और आर्थिक और पर्यावरण गतिविधियों जैसे सुरक्षा संबंधी चिंताओं की विस्तृत श्रृंखला लागू करने के लिए एक बहुत मजबूत संगठन हैं. इस संगठन का सकारात्मक दृष्टिकोण है कि इस संगठन के सभी 57 प्रतिभागी राज्यों को बराबर का दर्जा दिया गया है, और निर्णय राजनीतिक रूप से सर्वसम्मति से लिया जाता है, लेकिन कानूनी तौर पर बाध्यकारी नहीं हैं. उपरोक्त विषय पर नई जानकारी देने के लिए डॉयचे वेले का आभारी हूं. सुभाष चक्रवर्ती, नई दिल्ली

---

9 दिसंबर के आज के इतिहास की रिपोर्ट पढ़ कर मनोज कामत लिखते हैं इस रिपोर्ट ने अमेरिकी सेना द्वारा किये गए कार्यवाही पर प्रकाश डाला. साथ ही इतिहास में ये अहम घटना थी क्योंकि वियतनाम के बाद सेना को फिर से गुरिल्ला लड़ाकों का सामना करना पड़ा जिसमें वे साफ नाकाम रहे. अमेरिका जिस देश में भी स्थिरता लाने की कोशिश में सैन्य कार्यवाही करता है वो उस देश की आर्थिक और सामाजिक परिस्थिति बदलकर उस देश को बर्बादी के कगार पर ला खड़ा करता है. अमरीका का यह हस्तक्षेप ज्यादातर मामलों में विवादास्पद ही होता है. इस रिपोर्ट से हॉलीवुड फिल्म हॉक डाउन फिर से देखने का मन कर रहा है.

---

मंथन के विषय रविंदर कासवान ने लिखा है, "मैं यह प्रोग्राम हमेशा देखता हूं और मुझे यह बहुत पसंद है क्योंकि यहां नई नई तकनीकों के बारे में जानकारी मिलती है. मैं Bsc 1st year का विद्यार्थी हूं. मैं जानना चाहता हूं कि केंद्रीय बल के अंतर्गत प्रत्येक कण की गति सदैव एक ही समतल में क्यों होती है."

---

डीडब्ल्यू हिंदी का न्यूजलेटर मुझे नियमित रूप से मिल रहा है आपके जरिए जितनी भी जानकारी मिल रही है वो काफी अलग और रोमांचक होती. अंकित कुमार

---

डॉक्टरों की 'घसीट लिपि' पर संसद में सवाल – इस रिपोर्ट पर देवेन्द्र मिश्रा का कहना है डॉक्टरों को प्रिस्क्रिप्शन कैपिटल लेटर में लिखनी चाहिए ताकि सबको समझ में आये. इस पर भी एक कानून होना चाहिए ताकि हर दवाखाने वाला आसानी से उसे पढ़ सकें और सही दवाई दें, जिससे पब्लिक को राहत मिले. साथ ही हर लैब या पैथोलॉजी वालों को रिपोर्ट्स हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में साफ साफ देनी चाहिए. डॉक्टर रिपोर्ट देखने के बाद ही प्रिस्क्रिप्शन लिखता है. ऐसा होने से रोगी को संतुष्टि रहेगी कि रिपोर्ट के मुताबिक डाक्टर ने सही इलाज किया है.

---

मेरी ओर से आप सभी को हैप्पी क्रिसमस और नया साल मुबारक हो. आपकी वेबसाइट व फेसबुक के माध्यम से हमें दुनियाभर की विभिन्न घटनाओं के बारे में पता चलता है. जब भी हमें कोई जानकारी चाहिए, डीडब्ल्यू के पेज पर जाते हैं. DW सबसे अच्छा विकल्प है. आपकी वेबसाइट हर प्रकार की जानकारी, मनोरंजन और ज्ञान का बहुत अच्छा स्रोत है. हर साल हम हमारे क्लब में एक श्रोता सम्मेलन और DW प्रदर्शनी का आयोजन करते हैं. इस साल भी प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा इसके लिए आपसे निवेदन है कि आप हमारे क्लब के सदस्यों के लिए नए साल के कैलंडर के साथ कुछ सामग्री भेज दें. आपका बहुत धन्यवाद होगा. नाज़ीमुद्दीन, इंटरनेशनल डीएक्स रेडियो लिस्नर्स क्लब, मुर्शिदाबाद, पश्चिम बंगाल

---

आप अपने संदेश फेसबुक के माध्यम से हमें ऐसे ही भेजते रहें.

DW.COM