1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

डी मारिया ने तोड़ा ब्रिटिश रिकॉर्ड

खूब प्रचार, नामी कोच और स्टार खिलाड़ियों के बावजूद बुरा फुटबॉल खेलने वाली टीम मैनचेस्टर यूनाइटेड को नाक बचाने के लिए अथाह पैसे लुटाने पड़े हैं. क्लब रियाल मैड्रिड के विंगर आंखेल डी मारिया को रिकॉर्ड दाम में खरीद रहा है.

default

डी मारिया

रियाल मैड्रिड के स्टार आंखेल डी मारिया को पाने के लिए मैनचेस्टर यूनाइटेड, मैड्रिड को 5.97 छह करोड़ पाउंड की ट्रांसफर फीस चुकाएगा. रियाल मैड्रिड सौदा 7.5 करोड़ पाउंड में करना चाहता था. रियाल ने 2009 में मैनयू से सुपरस्टार क्रिस्टियानो रोनाल्डो को 8 करोड़ पाउंड में खरीदा था. स्पैनिश क्लब उस सौदे का हिसाब हल्का करना चाहता था. आखिकार सहमति 5.97 करोड़ पाउंड में बन गई.

डील के साथ ही डी मारिया इंग्लिश प्रीमियर लीग के सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए हैं. इससे पहले 2011 में आर्सेनल ने स्पेन के फर्नांडो टोरेस को लीवरपूल से पांच करोड़ पाउंड की ट्रांसफर फीस में खरीदा था. 2013 में आर्सेनल ने 4.24 करोड़ पाउंड ट्रांसफर फीस चुकाकर रियाल मैड्रिड के जर्मन मिडफील्डर मेसुत ओएत्सिल को अपनी टीम का हिस्सा बनाया.

Fußball WM 2014 Halbfinale Niederlande Argentinien Trainer

फान खाल

रियाल मैड्रिड के खिलाड़ियों ने भी डी मारिया के जाने की पुष्टि की है. सूत्रों के मुताबिक रविवार को डी मारिया प्रैक्टिस सत्र के दौरान आए लेकिन अभ्यास नहीं किया. कुछ देर साथी खिलाड़ियों से बातचीत करने के बाद वो सबको अलविदा कहने लगे. 26 साल के डी मारिया की गिनती इस वक्त दुनिया के सबसे अच्छे लेफ्ट विंगरों या अटैकिंग मिडफील्डरों में होती है. 2014 में अर्जेंटीना को वर्ल्ड कप फाइनल तक पहुंचाने में उनका बड़ा योगदान रहा. डी मारिया 2010 में रियाल मैड्रिड आए थे.

इस सत्र में खिलाड़ियों के खरीद बिक्री की आखिरी तारीख एक सितंबर है. ज्यादातर देशों में लीग मुकाबले इससे पहले ही शुरू हो चुके हैं. मैनयू की कमान इस बार हॉलैंड के लुइस फान खाल के हाथ में हैं. फान खाल हॉलैंड को विश्व कप 2010 के फाइनल और 2014 के सेमीफाइनल तक पहुंचा चुके हैं. लेकिन मैनयू के साथ उनकी गाड़ी बहुत बढ़िया नहीं चल पा रही. कोच ने टीम को टाइट करने की तमाम कोशिशों के बावजूद मैनयू जबरदस्त खेल नहीं दिखा पा रही है.

इंग्लिश प्रीमियर लीग में स्वॉनसी जैसी कमजोर टीम ने उसे पहला ही मैच हरा दिया. रविवार को संडरलैंड ने भी मैनयू को 1-1 पर रोक दिया. टीम के बुरे प्रदर्शन से फान खाल ऐसे झल्लाए कि उन्होंने खुले तौर पर कह दिया कि मैनयू बहुत आगे नहीं जा पाएगी. टीम ने आखिरी बार 2007-08 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी. इसके बाद तो टीम यूरोपीय मुकाबले में दूर दूर तक नहीं दिखी. वैसे टीम में वेन रूनी, नानी, रॉबिन फान पर्सी, आंदेर हरेरा और डेनी वैलबेक जैसे खिलाड़ी हैं, लेकिन टीम का डिफेंस और मिडफील्ड कमजोर बना हुआ है.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM