1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

डिजिटलाइज करके फेंक दो किताबें!

यह दौर है किताबों के डिजिटलाइजेशन का. यानी उन्हें कंप्यूटर में सेव करके रखने का. लेकिन इसके साथ ही एक सवाल उठ खड़ा हुआ है कि जो किताबें कंप्यूटर में सेव हो गईं, उनका किया क्या जाए? क्या उन्हें कूड़ेदान में फेंकना सही है?

default

ईबुक तकनीक को लेकर अलग अलग मत सामने आ रहे हैं लेकिन वे विद्वान और पुस्तकालय जो किताबों के बड़े भंडार को नहीं संभाल सकते, इस तकनीक को हाथोंहाथ ले रहे हैं. बहुत से पुस्तकालय अपने संग्रह में मौजूद किताबों का डिजिटलाइजेशन करा रहे हैं.

हालांकि इस प्रक्रिया के साथ साथ एक और सवाल बड़ा होता जा रहा है. वह यह है कि क्या इसके बाद कागज की किताबों को फेंक दिया जाएगा. इटली के फ्लोरेंस में स्थित राष्ट्रीय पुस्तकालय ने हाल ही में अपनी सबसे पुरानी 3000 किताबों को डिजिटलाइजेशन कराया है. उसने यह काम अमेरिका की कंपनी प्रोक्वेस्ट के साथ मिलकर किया है. लेकिन वह अपनी पुरानी और बेशकीमती किताबों को कूड़े में नहीं फेंकेगी. अधिकारियों का मानना है कि ये किताबें राष्ट्रीय सांस्कृतिक धरोहर का हिस्सा हैं.

डिजिटल बेहतर

प्रोक्वेस्ट के एग्जेक्यूटिव डैन बर्नस्टोन कहते हैं कि बहुत से विद्वान किताबों की जगह उनका डिजिटल रूप देखकर ज्यादा संतुष्ट होंगे. इसका अर्थ यह भी है कि पुरानी किताबें जिन लोगों के निजी संग्रह में हैं, वे नष्ट की जा सकती हैं क्योंकि बाजार में उनकी कोई कीमत नहीं होगी.

Frankfurt Buchmesse 2010 Lizenzverkauf

पिछले हफ्ते अमेरिका के क्रॉनिकल ऑफ हायर एजुकेशन में छपी एक रिपोर्ट में बताया गया कि कैसे एक प्रोफेसर एलेक्जैंडर हालवाइस ने मैनहटन के अपने अपार्टमेंट में जगह खाली करने के लिए किताबों का इस्तेमाल किया. हालवाइस ने इन किताबों की जिल्द उतारी और उन्हें पेज-फेड नाम के ऑटोमेटिक स्कैनर पर रख दिया. स्कैनर ने किताबों के सारे पेजों की तस्वीरें उनके कंप्यूटर में सेव कर दीं. इसके बाद प्रोफेसर हालवाइस ने किताबों को नष्ट करने की योजना बना डाली. उनका कहना है कि उनके पास 3000 किताबें हैं और वह उनमें से सिर्फ 500 ही अपने पास रखेंगे. अब तक वह 800 किताबों को अपने कंप्यूटर में सेव कर चुके हैं.

' दोस्तों का कत्ल '!

इस रिपोर्ट ने किताबों के चाहने वाले कई पाठकों को काफी परेशान किया है. उन्होंने प्रोफेसर हालवाइस के काम को 'दोस्तों के कत्ल' जैसा कहा. हालवाइस ने भी अपने ब्लॉग पर लिखा कि जब वह इस प्रक्रिया के बारे में लिख रहे थे तब उन्हें लगा कि वह ईशनिंदा जैसा काम कर रहे हैं.

लेकिन ऐसे बहुत से लोग हैं जो किताबों से छुटकारा चाहते हैं. प्राचीन इतिहास के चर्चित ब्लॉगर रोजर पीयर्स कहते हैं कि वह हमेशा किताबों से छुटकारा चाहते हैं. वह बताते हैं, "अगर आप इनसे छुटकारा नहीं पाएंगे तो कुछ वक्त बाद आप खुद को किताबों के विशाल ढेर के बीच पाएंगे. इनमें ऐसी किताबें होंगी जिनके बारे में आप जानते हैं कि आप दोबारा उन्हें कभी नहीं पढ़ेंगे. बहुत कम ऐसी किताबें होंगी जिन्हें आप अपने पास रखना चाहेंगे."

वैसे लोगों ने इस समस्या से बचने के लिए कुछ और तरीके भी निकाल रखे हैं. मसलन हैमबर्ग के एक लेखक ने अपनी किताबों के बहुत बड़े संग्रह में से कुछ को ईबे पर बेचने की कोशिश की. हालांकि उन्हें लगता है कि नीलामी के लिए बोली लगाने वालों के जवाब देना और उन्हें किताबें भेजना कोई आसान काम नहीं है.

निजी पुस्तकालयों का हाल अक्सर ऐसा होता है कि उनके मालिकों के मर जाने के बाद किताबों किसी सेकंड हैंड डीलर के पास चली जाती हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः आभा एम