1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

डायबिटीज से लड़ता है एक छोटा सा पैग

कभी शराब न पीने वालों को डाइबिटीज होने का खतरा ज्यादा होता है. लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि रोज शराब पी जाए.

डेनमार्क के वैज्ञानिकों का यह शोध डियाबेटोलोजिया पत्रिका में छपा है. शोध के मुताबिक हफ्ते में तीन चार दिन कम मात्रा में शराब पीने वालों को डायबिटीज होने की संभावना कम होती है. कभी शराब न पीने को वालों को डायबिटीज होने का जोखिम ज्यादा होता है. रेड वाइन खास तौर पर खून में शुगर की मात्रा को बेहद कुशल ढंग से नियंत्रित करती है.

डेनमार्क के वैज्ञानिकों ने 70,000 लोगों की पीने की आदत के आंकड़े जुटाए. शोध के प्रमुख और डेनमार्क की पब्लिक हेल्थ यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जाने टोलस्ट्रुप कहते हैं, "एक बार में ज्यादा अल्कोहल पीने के बजाए उसी को चार भागों में बांट कर लिया जाए तो ज्यादा बेहतर परिणाम मिलते हैं."

शोध में पता चला कि हफ्ते में तीन चार दिन कम शराब पीने वाली महिलाओं को डायबिटीज का खतरा 32 फीसदी और पुरुषों को 27 फीसदी कम होता है. लेकिन महिलाएं अगर ज्यादा शराब पिएं तो उन्हें डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है. वहीं रोज व्हिस्की, रम या ज्यादा अल्कोहल वाला ड्रिंक गटकने वालों को पेट संबंधी बीमारियां होने का ज्यादा खतरा होता है. विशेषज्ञों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि इसका शोध को शराब पीने के लिए हरी झंडी न समझा जाए.

(डायबिटीज के शुरुआती संकेत)

ओंकार सिंह जनौटी

DW.COM

संबंधित सामग्री