1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

डायनासोरों का खाने वाले मेंढक

पृथ्वी पर कभी डायनासोरों को खाने वाले मेंढक भी हुआ करते थे. करीब 6.8 करोड़ साल पहले आहार चक्र में ऐसे मेंढकों का अहम योगदान था.

वैज्ञानिकों के मुताबिक 6.8 करोड़ साल पहले पृथ्वी पर बीलजेबुफो नाम के मेंढक थे. मैडागास्कर में रहने वाले ये मेंढक छोटे डायनासोरों को चट कर जाते थे. हॉर्न्ड मेंढकों पर शोध करने के बाद यह दावा किया गया है. आज पाए जाने वाले हॉर्न्ड मेंढक बीलजेबुफो के वंशज हैं.

विज्ञान पत्रिका नेचर ने चार प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटियों के साझा शोध की यह रिपोर्ट प्रकाशित की है. रिसर्च में एडिलेड यूनिवर्सिटी, कैलिफोर्निया स्टेट पॉलिटेक्निक, कैलुफोर्निया यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन शामिल हैं.

एडिलेड यूनिवर्सिटी के बायोलॉजिकल साइंसेस के रिसर्चर डॉक्टर मार्क जोंस के मुताबिक, "मेंढकों की ज्यादातर प्रजातियों के जबड़े कमजोर होते हैं और वे आम तौर पर छोटा शिकार पकड़ते हैं. इनके उलट हॉर्न्ड मेंढक अपने बराबर बड़े आकार के जीवों का शिकार करते हैं- जैसे दूसरे मेंढक, सांप और बीबर. और उनके ताकतवर जबड़े इसमें अहम भूमिका निभाते हैं."

दक्षिण अमेरिका में मिलने वाले बड़े हॉर्न्ड मेंढकों का जिक्र करते हुए वैज्ञानिकों ने कहा कि इंसान को सिर्फ एक अंगुली पर 50 लीटर पानी टिकाने के लिए जितनी ताकत चाहिए, उतनी ही ताकत हॉर्न्ड मेंढक के जबड़ों में होती है.

हॉर्न्ड मेंढकों पर शोध करने के बाद वैज्ञानिकों ने लुप्त हो चुके विशाल बीलजेबुफो मेंढक की बाइट फोर्स की गणना की. डॉक्टर जोंस के मुताबिक, "इतने ताकतवर जबड़ों वाले बीलजेबुफो अपने आस पास रहने वाले छोटे और किशोर डायनासोरों को निगलने में सक्षम थे."

यह पहला मौका है जब डायनासोरों का शिकार करने वाले किसी ताकतवर परभक्षी जीव का पता चला है.

(हैरान करने वाली नई प्रजातियां)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री