1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

डाइटिंग में चलेगा डाइट कोक

फिगर अच्छी रखने के लिए लोग खाने पीने पर काबू करते हैं. कई बार तो चीनी को अपने आहार से पूरी तरह निकाल ही देते हैं. कोल्ड ड्रिंक पीने का मन हुआ तो डाइट कोक ले ली. डॉक्टरों का कहना है कि इसमें कुछ गलत नहीं है

डाइट कोक या पेप्सी लाइट जैसे कोल्ड ड्रिंक अक्सर विवादों में घिरे रहे हैं. कंपनियां इनमें 0 कैलोरी होने का दावा भी करती हैं. मिठास के लिए इनमें चीनी की जगह कई तरह के रसायनों का इस्तेमाल होता है. अब तक माना जाता रहा है कि भले ही इनमें चीनी ना हो, लेकिन ये रसायन हारमोन पर कुछ इस तरह से असर डालते हैं कि भूख बढ़ने लगते है और मीठा खाने का मन होने लगते है. यानी कुल मिला कर व्यक्ति का वजन बढ़ ही जाता है.

लेकिन नया शोध इस दावे को गलत बताता है. अमेरिका में नॉर्थ कैरोलाइना यूनिवर्सिटी ने यह शोध किया है. यहां मोटापे पर काबू पाने के तरीके खोजे जा रहे हैं. यह नई रिसर्च भी उसी का हिस्सा है. इसके लिए 318 अधिक वजन वाले लोगों को तीन हिस्सों में बांटा गया. ये सभी हर रोज कोल्ड ड्रिंक से कम से कम 280 कैलोरी लिया करते थे. इनमें से एक ग्रुप को साधारण कोल्ड ड्रिंक दिया गया, दूसरे को डाईट कोक और डाईट लिप्टन टी और तीसरे ग्रुप को नेस्ले का पानी.

मीठे से ऊब

रिसर्च करने वाली कारमेन पिएरनास ने अमेरिकन जरनल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन में लिखा है, "हमारे शोध में इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिला है कि पानी की तुलना में डाइट वाले कोल्ड ड्रिंक पीने से मीठा खाने का या अन्य तरह के कोल्ड ड्रिंक पीने का मन करने लगता है." अमेरिका की एक न्यूट्रीशन एक्सपर्ट वसंती मलिक बताती हैं कि मीठा बनाने वाले रसायन चीनी की तुलना में बेहद मीठे होते हैं, "यह 250 गुना ज्यादा मीठे होते हैं और इसी वजह से लोगों में इन्हें ले कर चिंता शुरू हुई."

जिन लोगों पर शोध किया गया, जब तीन और फिर छह महीने बाद उनका वजन देखा गया तो पता चला कि पानी और डाइट कोक पीने वाले लोगों का वजन कम हुआ है. जहां शुरुआत में ये लोग एक दिन में 2,000 से 2,300 कैलोरी ले रहे थे, वहीं बाद में यह मात्रा घट कर 1,500 से 1,800 हो गई. जब इनके खाने पीने पर ध्यान दिया गया तो देखा कि साधारण कोल्ड ड्रिंक पीने वाले लोग अन्य चीजों के साथ साथ फल और सब्जियां ज्यादा खा रहे थे. वहीं डाइट कोक पीने वालों का मन मीठे से ऊब चुका था, उन्होंने खाना खाने के बाद मिठाई या डेजर्ट खाना छोड़ दिया था. वसंती मलिक ने इस बारे में कहा, "यानी अगर आप यह सोचते हैं कि डाइट सोडा पीने से आप मीठा खाना ज्यादा पसंद करने लगेंगे, तो यहां तो बिलकुल ही उसका विपरीत दिख रहा है."

पियो पर ध्यान से

हालांकि ऐसा भी नहीं है कि ये कोल्ड ड्रिंक बिलकुल भी हानिकारक ना हों. कुछ वक्त पहले फ्रांस में हुए एक शोध में पता चला था कि यदि आप 14 साल तक इन रसायनों का सेवन करते हैं, तो इस से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. इसके अलावा दिल पर भी बुरे असर की बात कही गयी है. इसकी सफाई में कारमेन पिएरनास का कहना है, "हम यहां मोटापे के शिकार लोगों में चीनी कम करने की कोशिश कर रहे हैं, इसलिए जाहिर सी बात है कि सवाल यह उठता है कि चीनी की जगह वे लें क्या?"

वसंती मलिक की सलाह है कि डाइट कोक जैसी चीजों का सेवन करें लेकिन नियंत्रित मात्रा में और इसके साथ सादा पानी, सोडा या फिर नारियल पानी को भी अपने आहार का हिस्सा बनाएं. यदि आप वजन कम करना चाह रहे हैं तो 'डाइट' या 'लाइट' के लेबल वाले कोल्ड ड्रिंक आपके लिए बुरे नहीं हैं. ना ही इनमें चीनी है और ना ही इन्हें पीने के बाद आपका चीनी वाली चीजों की तरफ देखने का मन करेगा, बस इन्हें अपनी आदत ना बनाएं.

आईबी/एएम (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री