1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

डब्ल्यूटीओ में खाद्य सुरक्षा बिल पर विवाद

इंडोनेशिया में विश्व व्यापार सम्मेलन शुरू हो रहा है. विश्व नेता मुक्त व्यापार में मतभेद को खत्म कर आखिरकार एक समझौता करना चाहते हैं लेकिन भारत का खाद्य सुरक्षा विधेयक इस मकसद तक पहुंचने में मुश्किलें पैदा कर रहा है.

default

बाली के डब्ल्यूॉटीओ सम्मेलन में समझौता करने की कोशिश होगी

बाली में होने वाले डब्ल्यूटीओ के इस सम्मेलन का उद्देश्य है कि 2001 में शुरू हुई दोहा वार्ता को आखिरकार सुलझाकर आगे बढ़ाया जाए. दोहा वार्ता के तहत देशों में मुक्त व्यापार को बढ़ावा देने के लिए बाधाओं को हटाने की बात की गई थी. यह बाधायें भारत, चीन, दक्षिण कोरिया और ब्राजील की मांगों की वजह से अब तक बनी हुई हैं. खाद्य पदार्थों के आयात और निर्यात को लेकर देशों के बीच विवाद छिड़ा हुआ है.

पिछले हफ्ते डब्ल्यूटीओ के नए प्रमुख रोबर्तो आजेवेदो ने जिनेवा में विकसित और विकासशील देशों के बीच समझौता कराने की कोशिश की. बाली में इंडोनेशियाई व्यापार मंत्री गीता वीर्जवान ने कहा है कि इस बार डब्ल्यूटीओ में शामिल 159 देशों के वित्त मंत्रियों में समझौता हो सकता है.

Indien Kinder Schulessen

भारत खाद्य बिल की शर्तों पर अटल है

हालांकि इस सम्मेलन में भारत का खाद्य कार्यक्रम एक बड़ा अड़ंगा साबित हो सकता है. खाद्य सामग्री को लेकर भारत ने डब्ल्यूटीओ समझौते में मांगों को बदलने की बात कही है ताकि किसानों को और रियायत दी जा सके. भारत सरकार का मानना है कि इस वक्त के व्यापार समझौतों से खाद्य विधेयक को नुकसान पहुंच सकता है.

बाली समझौते के मसौदे के मुताबिक खाद्य सामग्री के लिए रियायत केवल चार साल तक दी जाती है. लेकिन डब्ल्यूटीओ के सदस्य देशों का मानना है कि भारत लंबे वक्त के लिए इस नियम से छूट लेने की कोशिश करेगा. भारत में आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर भी सरकार दबाव में है.

भारत सरकार ने भी साफ साफ कह दिया है कि वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा सम्मेलन में खाद्य सुरक्षा के मकसद को लेकर अटल रहेंगे. हालांकि शर्मा यह भी कहते हैं कि भारत बाली समझौते पर कोई रोक नहीं लगाएगा.

एमजी/ओएसजे (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links