1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ट्रंप और क्लिंटन की दावेदारी और मजबूत

उत्तर पूर्वी अमरीका में हुए राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के ताजा प्राइमरी चुनावों में अपनी जीत के साथ डॉनल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन ने अपनी अपनी दावेदारी और मजबूत कर ली है.

मंगलवार की रात हुए इन प्राइमरी चुनावों में डॉनल्ड ट्रंप ने पांचों राज्यों में जीत हासिल कर ली. दूसरी तरफ डेमोक्रैटिक पार्टी की हिलेरी क्लिंटन पांच में से चार राज्यों को जीत पाई और एक राज्य में उनकी पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के प्रतिद्वंदी बर्नी सैंडर्स को जीत हासिल हुई.

पिछले हफ्ते अपने गृह राज्य न्यूयॉर्क में बड़ी जीत दर्ज करने और अब उत्तरपूर्व के पांचों राज्यों को पूरी तरह जीत लेने के बाद डॉनल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी का रास्ता अब तकरीबन साफ कर लिया है. लेकिन ट्रंप को उम्मीदवार बनने के लिए 1237 डेलीगेट्स की जरूरत है जबकि अब तक उन्हें 77 प्रतिशत यानि 950 डेलीगेट ही मिले हैं. वहीं उनके प्रतिद्वंदी टेड क्रूज़ और जॉन केसिक अब किसी भी तरह 1237 के इस मैजिक आंकड़े तक नहीं पहुंच सकते.

इससे उत्साहित ट्रंप ने खुद को ''प्रकल्पित उम्मीदवार'' बताया है. इस क्लीन स्वीप के बाद डॉनल्ड ट्रंप का कहना था, ''जैसे बॉक्सिंग के खेल में दूसरे बॉक्सर को नॉक आउट कर देने के बाद फैसले का इंतजार नहीं किया जाता वैसे ही यहां भी होना चाहिए. मुझे इससे पहले भी इसी तरह की जीत मिली है.''

दूसरी तरफ हिलेरी क्लिंटन अपने प्रतिद्वंदी बर्नी सैंडर्स से काफी आगे जा चुकी हैं. हालांकि इन चुनावों में सैंडर्स को रोड आइलैंड प्रांत में जीत मिली है. सैंडर्स अब राष्ट्रपति पद की दावेदारी में काफी पिछड़ चुके हैं लेकिन उनका कहना है कि वे रेस से बाहर नहीं होंगे क्योंकि वे देश में एक नए राजनैतिक आंदोलन के लिए लड़ रहे हैं. ​क्लिंटन अब तक डैमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की दावेदारी के लिए ज़रूरी 2383 डेलीगेट्स या पार्टी प्रतिनिधियों के आंकड़े में से 90 प्रतिशत हासिल कर चुकी हैं.

Infografik US-Vorwahlen Gewinner Stand 27.04.2016 Englisch

पेनसिलवेनिया में हजारों लोगों को संबोधित करते हुए क्लिंटन ने लोगों से ​रिपब्लिकन उम्मीदवार के खिलाफ वोट करने की अपील की, ''अगर आप डैमोक्रेट हैं, एक स्वतंत्र या सोचने समझने वाले रिपब्लिकन हैं तो आप जानते हैं कि ट्रंप की सोच अमेरिका में अवसरों को नहीं बढ़ाने वाली या असमानता को नहीं घटाने वाली है. उधर चुनावों से ठीक पहले ट्रंप ने क्लिंटन पर निशाना साधा. उनका कहना था, ''साफ बात ये है, अगर हिलेरी क्लिंटन पु​रूष होती तो उन्हें 5 प्रतिशत वोट भी नहीं मिलता.''

आरजे/एमजे (एपी, रायटर्स, डीपीए)

संबंधित सामग्री