1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ट्यूनिशिया में प्रदर्शनों में दर्जनों की मौत

ट्यूनिशिया में सरकार विरोधी दंगों को दबाने के प्रयासों के मंगलवार को स्कूल कॉलेज बंद रहे. सोमवार को कई शहरों में नए दंगे भड़कने के बाद शिक्षा मंत्रालय ने स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया था.

default

इसके पहले छात्रों ने फेसबुक पर रैलियों का आह्वान किया, जिसमें खून में सना ट्यूनिशिया का झंडा दिखाया गया. अधिकारियों ने माना है कि 18 लोग मारे गए हैं लेकिन दावा किया है कि सुरक्षा बलों ने आत्मरक्षा में कार्रवाई की है. राष्ट्रपति जिने अल अबीदीन बेन अली ने प्रदर्शनकारियों को आतंकवादी की संज्ञा दी है और कहा है कि वे विदेशों से संचालित हैं.

NO FLASH Unruhen in Tunesien

इस बीच पैरिस स्थित अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार फेडरेशन ने कहा है कि प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी में 35 लोग मारे गए हैं जबकि स्थानीय ट्रेड यूनियन फेडरेशन ने 50 लोगों के मरने की बात कही है.

सख्ती से प्रशासित ट्यूनिशिया में 17 दिसंबर को एक 26 वर्षीय स्टूडेंट के आत्मदाह के प्रयास के बाद प्रदर्शन शुरू हो गए. पुलिस ने उसका वह सामान जब्त कर लिया था जिसे बेचकर वह जीविका चलाता था. उसकी पिछले सप्ताह अस्पताल में मौत हो गई. इस बीच चल रही सरकार विरोधी रैलियों में युवाओं के अलावा वकील और मजदूर संगठन शामिल हो गए हैं.

NO FLASH Tunesien Demonstration Pressefreiheit Arbeitslosigkeit

यूरोपीय संघ, अमेरिका, फ्रांस और संयुक्त राष्ट्र ने स्थिति पर चिंता व्यक्त की है और 1987 से शासन कर रहे राष्ट्रपति जिने अल अबीदीन बेन अली की सरकार से संयम दिखाने को कहा है. ट्यूनिशिया के सबसे बड़े व्यापारिक साझेदार यूरोपीय संघ ने जान माल के नुकसान पर अफसोस व्यक्त किया है.

उपद्रवों के बाद बेन अली ने 2012 तक 3 लाख नए रोजगार बनाने की घोषणा की है और कहा है कि वे फरवरी में एक राष्ट्रीय रोजगार सम्मेलन बुलाएंगे. ट्यूनिशिया में सरकारी बेरोजगारी दर 14 फीसदी है लेकिन रोजगार से वंचित ग्रैजुएट युवाओं की संख्या दोगुनी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: वी कुमार

DW.COM

WWW-Links