1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ट्यूनिशिया की नई सरकार की पहली बैठक आज

ट्यूनिशिया के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अपनी राष्ट्रीय एकता वाली सरकार की पहली कैबिनेट बैठक की तैयारी कर रहे हैं. लेकिन विरोध भी शुरू हो गया है. विपक्ष चाहता है कि देश से भागे राष्ट्रपति बेन अली के समर्थकों को हटाया जाए.

default

एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री मोहम्मद गनूची ने पूर्व राष्ट्रपति जिने अल अबिदिने बेन अली के कई विरोधियों को बड़े पदों पर नियुक्त किया है. लेकिन उनमें से चार ने सरकार का साथ छोड़ दिया है. उनका कहना है कि सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे लोग इस बात से बिल्कुल खुश नहीं हैं कि गनूची समेत बेन अली के कई समर्थक अब भी सत्ता में बने हुए हैं.

NO FLASH Tunesien Unruhen Ghannouchi Mbazaa Tunis Regierung

अंतरिम प्रधानमंत्री मोहम्मद गनूची और राष्ट्रपति फवाद मोबाजा

टूजीटीटी ट्रेड यूनियन के आबिद अल बरीकी के नामांकित किए तीनों मंत्रियों ने सरकार से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कहा कि बेन अली की पुरानी टीम के सभी लोगों को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाना चाहिए. हालांकि वे लोग गनूची को स्वीकार करने को तैयार हैं. बरीकी ने कहा, "यह सब सड़कों पर उतरे लोगों की मांग के जवाब में किया जा रहा है."

गनूची और कार्यवाहक राष्ट्रपति फवाद मेबाजा हालात पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं. इसी खातिर उन्होंने बेन अली को समर्थन देने वाली डेमोक्रैटिक कॉन्स्टिट्यूशनल पार्टी (आरसीडी) से भी इस्तीफा दे दिया. इस कदम के बाद एक विद्रोही मंत्री मुस्तफा बेन जाफर ने कहा कि वह वापस आ सकते हैं. लेकिन यूजीटीटी ने कहा कि यह कदम संतोषजनक होते हुए भी नाकाफी है.

गनूची का कहना है कि कुछ पुराने मंत्रियों को मंत्रिमंडल में रखा गया है क्योंकि चुनाव कराने के लिए उनकी जरूरत है. देश में दो महीने के भीतर ही चुनाव होने की उम्मीद है.

सरकार ने कहा है कि देश में बीते कुछ हफ्तों के दौरान हुए प्रतिक्रियावादी दंगों में कम से कम 78 लोगों की मौत हुई है. इस दौरान दो अरब डॉलर का आर्थिक नुकसान हुआ. हालांकि मंगलवार तक तनाव में काफी कमी आ गई है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links