1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

टॉप पर है टेस्ट क्रिकेट: आईसीसी

सचिन तेंदुलकर का ऐतिहासिक 50वां सैकड़ा हो, टेस्ट जगत में नंबर वन बनने के लिए भारत और दक्षिण अफ्रीका में जंग, या फिर रोमांच के शिखर पर पहुंचती एशेज सीरीज. आईसीसी सीईओ हारून लोरगाट की राय में टेस्ट क्रिकेट टॉप पर है.

default

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सेंचुरियन टेस्ट में सचिन तेंदुलकर ने अपना 50वां शतक पूरा किया लेकिन भारत दक्षिण अफ्रीका के हाथों टेस्ट हार गया. वहीं एशेज सीरीज ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच फिलहाल 1-1 से बराबर है. दुबई में हारून लोरगाट ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता में कमी नहीं आई है. "हर कोई टेस्ट क्रिकेट के बारे में बात कर रहा है और टिकटों की मांग भी बढ़ी है. ये ऐसी सीरीज हैं जो क्रिकेट प्रशंसकों की कल्पनाओं पर कब्जा करती है."

Cricket - 2010 Ashes Series

लोरगाट के मुताबिक कुछ हफ्ते पहले वह एडीले़ड में थे और 1932-33 में बॉडीलाइन सीरीज के बाद पहली बार वहां इतनी बड़ी संख्या में लोग टेस्ट देखने के लिए एकत्र हुए. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का अनुमान है कि बॉक्सिंग डे पर मेलबर्न में 90 हजार से ज्यादा लोग टेस्ट मैच देखने के लिए आएंगे. लोरगाट ने खुशी जताई कि एशेज की तर्ज पर दक्षिण अफ्रीका में भारत के साथ सीरीज के प्रति भी लोगों की जबरदस्त दिलचस्पी देखने को मिल रही है.

"टेस्ट की लोकप्रियता को बढ़ते हुए देखना सुखद है और यह ऐसे समय में हो रहा है जब हम टेस्ट लीग का फार्मूला तय कर रहे हैं. इसके तहत हर चौथे साल एक टेस्ट चैंपियनशिप कराई जाएगी. पहले चार स्थानों में आने के लिए टेस्ट टीमों में कड़ा मुकाबला होगा और लोगों की यह देखने में दिलचस्पी रहेगी."

2010 में रिकॉर्ड कायम करने वाले और नई ऊंचाइयां छूने वाले खिलाड़ियों को लोरगाट ने साधुवाद दिया. लोगार्ट कहते हैं, "पूरे साल बेहतरीन खिलाड़ी यादगार मुकाम हासिल करते रहे. मुथैया मुरलीधरन ने 800 टेस्ट विकेट लिए, क्रिस गेल ने तिहरा शतक जड़ा, ज्याक कालिस ने अपना पहला दोहरा शतक बनाया. रोमांचक टेस्ट मैच भी खेले गए. सिर्फ टेस्ट मैच के जरिए ही साहस, कौशल और सहनशक्ति की परीक्षा होती है. एशेज में किसी भी ओर जा सकने वाला परिणाम, तेंदुलकर के रिकॉर्ड. यह सब टेस्ट में ही संभव है और टेस्ट हमेशा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के शीर्ष पर रहेगा."

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links