1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

टेनिस संघ और खिलाड़ियों में टकराव

भारतीय टेनिस संघ ने डेविस कप में खेलने वाले खिलाड़ियों के बहिष्कार की धमकी को आड़े हाथों लिया है. आठ खिलाड़ियों ने संघ को चेतावनी दी है कि अगर मांगें पूरी नहीं हुईं तो वे नहीं खेलेंगे.

टेनिस संघ के सीईओ हिरन्मय चटर्जी ने कहा, "समिति इन मांगों पर गौर करेगी लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि खिलाड़ी अपनी शर्तों पर राजी होने के लिए संघ को मजबूर कर सकते हैं. उन्होंने जो बातें रखी हैं उनमें से कुछ वाजिब हैं और कुछ नहीं. जो मांगें संघ को सही लगेंगी सिर्फ वही मानी जाएंगी." उन्होंने कहा, "मेरी खिलाड़ियों से इस बारे में बात हुई है. अब समिति के बाकी सदस्यों से बात करके ही हम फैसला करेंगे कि आगे क्या करना है."
चटर्जी के अनुसार खिलाड़ियों का काम खेलना है. वे सुझाव जरूर दे सकते हैं लेकिन एक ही समय पर वे खिलाड़ी होने के अलावा संचालक और चयनकर्ता भी नहीं हो सकते.

Somdev Devvarman


क्या हैं मांगें
महेश भूपति और सोमदेव देववर्मन समेत आठ खिलाड़ियों ने भारतीय टेनिस में फेरबदल और डेविस कप में मिलने वाली पुरस्कार राशि में खिलाड़ियों का हिस्सा बढ़ाने की मांग की है. अभी तक डेविस कप की रकम खिलाड़ियों और संघ के बीच बराबर बंटती आई है.
चटर्जी ने माना कि टीम के लिए एक फुलटाइम फिजियो ट्रेनर की मांग उचित है. उस पर ध्यान दिया जाएगा लेकिन हर मांग पर नहीं. ऐसा करने से दूसरे खेल संघों और खिलाड़ियों के लिए भी गलत मिसाल पेश होगी. उन्होंने कहा, "हम किसी खिलाड़ी को खेलने के लिए मजबूर नहीं कर सकते. अगर खिलाड़ी जिद पर अड़े रहे तो खेल संघ को सख्त कदम उठाने पड़ सकते हैं."
पेस का समर्थन नहीं
इन मांगों को उठाने वाले प्रमुख खिलाड़ी हैं महेश भूपति, सोमदेव देववर्मन और रोहन बोपन्ना. भारतीय स्टार टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने खुद को इस मामले से बाहर रखा है. पहले भी महेश भूपति और रोहन बोपन्ना ने पेस के साथ आपसी मतभेद के चलते लंदन ओलंपिक में खेलने से इनकार कर दिया था. इसके बाद संघ ने भूपति और बोपन्ना को दो साल के लिए डेविस कप से निलंबित कर दिया.
इन मतभेदों की वजह से संघ को पेस और भूपति की जोड़ी ओलंपिक में भेजने का इरादा बदलना पड़ा. आखिर में पेस की विष्णु वर्धन के साथ और भूपति की बोपन्ना के साथ जोड़ी बनाकर लंदन भेजी गई. दोनो ही जोड़ियां नाकाम होकर लौटीं.
एसएफ/एजेए (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links