टूट गया हीरो और होंडा का नाता | दुनिया | DW | 05.12.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

टूट गया हीरो और होंडा का नाता

भारत में हीरो होंडा का नाम अब अलग होने जा रहा है. हीरो और होंडा दोनों कंपनियां अलग हो गई हैं. जापान की होंडा मोटर कंपनी ने हीरो से 26 साल पुराना नाता पूरी तरह तोड़ने का फैसला कर लिया है.

default

जापान के बिजनेस अखबार निक्केई ने खबर दी है कि जापानी कंपनी होंडा मोटर्स ने हीरो होंडा में अपने सारे 26 फीसदी शेयरों को बेचने फैसला कर लिया है. शेयर्स हीरो कंपनी को ही बेचे जाएंगे जिसके प्रमोटर ब्रजमोहन मुंजाल हैं. इसके बदले में होंडा को 1.2 अरब डॉलर मिलेंगे.

निक्केई ने लिखा है कि होंडा और हीरो ग्रुप अपनी साझेदारी को खत्म करने के करार पर सहमत हो गए हैं. दोनों कंपनियां इस महीने के आखिर तक अपने अपने बोर्ड डायरेक्टर्स से इस समझौते के लिए आखिरी मंजूरी ले लेंगी.

दोनों कंपनियों का यह समझौता 1984 में हुआ था जिसके बाद हीरो होंडा नाम से संयुक्त कंपनी बनाई गई. अब होंडा कंपनी अगले साल मार्च के आखिर तक अपना सारा हिस्सा समेटकर निकल जाएगी. हालांकि तकनीकी मदद को लेकर 2004 में जो समझौता दोनों के बीच हुआ था वह तय तारीख यानी 2014 तक जारी रहेगा.

होंडा अब भारत में अपनी कंपनी होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया पर ध्यान देना चाहती है जिसकी वह अकेली मालिक है. हीरो होंडा ने पिछले साल भारत में 45 लाख दोपहिया वाहन बेचे जो कि भारत के तेजी से बढ़ते बाजार का 48 फीसदी हिस्सा बनता है.

हीरो होंडा में दोनों कंपनियों के 26-26 फीसदी शेयर हैं और यह दुनिया की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन बनाने वाली कंपनी है. हालांकि बाजार में ऐसी खबरें आती रही हैं कि जबसे होंडा ग्रुप ने भारतीय बाजार में खुद का कारोबार करना शुरू किया तब से दोनों कंपनियों के बीच अनबन शुरू हो गई.

इस वक्त हीरो होंडा के भारत में तीन प्लांट हैं. हरियाणा के धारुरेहड़ा और गुड़गांव के अलावा वह उत्तराखंड के हरिद्वार में भी वाहन बनाती है. कंपनी चौथा प्लांट लगाने की भी तैयारी में है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links