1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

"टूटी उंगली के साथ भी खेलेंगे पोंटिंग"

उंगली टूटने के बावजूद रिकी पोंटिंग चौथे एशेज टेस्ट मैच में खेल सकते हैं. बैटिंग कोच जस्टिन लैंगर ने कहा है कि पोंटिंग हिम्मत दिखाएंगे और मैच नहीं छोड़ेंगे. ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पर्थ टेस्ट में घायल हुए.

default

पोंटिंग के खेलने पर सस्पेंस

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग को तीसरे टेस्ट मैच के दौरान छोटी उंगली पर चोट लगी थी. ऐसा पर्थ टेस्ट के तीसरे दिन ही हो गया था. बाद में पता चला कि उनके बाएं हाथ की उंगली टूट गई है. अब उन्हें रविवार से शुरू होने वाले चौथे टेस्ट के लिए फिट होना है.

लैंगर ने मंगलवार को सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड अखबार से कहा कि अगर पोंटिंग नहीं खेलते हैं तो उन्हें हैरत होगी. लैंगर ने कहा, "वह शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत मजबूत हैं. अब जबकि हम सीरीज को एक-एक से बराबर कर चुके हैं और एशेज जीतने का मौका है, तो पोंटिंग जरूर खेलेंगे."

बीते रविवार को ही पोंटिंग 36 साल के हुए हैं. उनके लिए सीरीज अब तक बेहद खराब रही है. उन्होंने अब तक 16.60 के औसत से कुल 83 रन बनाए हैं. इनमें से 51 रन तो पहले मैच में ही बने थे.

पूर्व ओपनर जस्टिन लैंगर को तो लगता है कि टूटी हुई उंगली पोंटिंग की मदद ही करेगी. उन्होंने कहा, "पोंटिंग की चोट उन्हें फायदा पहुंचा सकती है. वह इतनी ज्यादा कोशिश कर रहे हैं. चोट के बाद वह कुछ शांत होंगे और अगले मैच के लिए तैयार होंगे. बहुत ज्यादा कोशिश करने के बजाय उन्हें थोड़ा आराम मिलेगा."

अगर पोंटिंग नहीं खेल पाते हैं तो उनकी जगह माइकल क्लार्क को कप्तानी करनी होगी. क्लार्क भी सीरीज में अब तक कुछ खास नहीं कर पाए हैं. उन्होंने बस एडिलेड टेस्ट में ही 80 रन बनाए थे जो ऑस्ट्रेलिया हार गया था.

पूर्व कप्तान इयान चैपल तो यहां तक कह चुके हैं कि माइकल क्लार्क की खराब फॉर्म पोंटिंग के बाद कप्तानी संभालने की उनकी संभावनाओं को प्रभावित कर सकती है. मेलबर्न के हेराल्ड सन अखबार को चैपल ने बताया, "मुझे यकीन है कि रिकी नहीं खेल पाया तो कप्तानी क्लार्क को ही मिलेगी. लेकिन आप स्थायी कप्तानी की बात करें तो मामला अलग है. इंग्लैंड के गेंदबाजों ने उन्हें शॉर्ट पिच गेंदों में उलझा लिया है और उनकी कमजोरी सामने आ गई है. अब आप ऐसे खिलाड़ी को तो कप्तान नहीं बनाना चाहेंगे जिसे शॉर्ट पिच गेंदों से इतनी समस्या हो."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links