1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

टीवी पर पिस्टोरियस का मुकदमा

विकलांग खिलाड़ी और गर्लफ्रेंड की हत्या के आरोपी ऑस्कर पिस्टोरियस के मुकदमे की सुनवाई को लोग दुनिया भर में टेलीविजन पर देख पाएंगे. दक्षिण अफ्रीका की अदालत ने मर्डर केस की सुनवाई को टीवी पर प्रसारित करने का फैसला किया है.

दक्षिण अफ्रीका के एक जज ने फैसला सुनाया कि पैरालंपिक स्टार ऑस्कर पिस्टोरियस पर हत्या के आरोप की सुनवाई का प्रसारण टेलीविजन पर किया जा सकता है. फैसले के बाद दुनिया भर में इस सनसनीखेज मर्डर केस पर रुचि रखने वालों को कोर्ट की कार्रवाई सीधे देखने को मिलेगी. 27 साल के पिस्टोरियस पर पिछले साल अपनी गर्लफ्रेंड और टॉप मॉडल रीवा स्टीनकैंप की हत्या का आरोप लगा. पिस्टोरियस ने रीवा को गोली मारने की बात कबूल ली है. लेकिन उन्होंने कहा था कि यह हादसा अनजाने में हुआ.

पिस्टोरियस के मुताबिक उन्होंने रीवा को चोर समझ लिया और गोली चला दी थी. अगर पिस्टोरियस हत्या के दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें उम्र कैद की सजा हो सकती है. इस सनसनीखेज हत्याकांड की सुनवाई तीन मार्च से शुरू हो रही है. टेलीविजन पर प्रसारित अपने फैसले में प्रिटोरिया हाई कोर्ट के जज दुस्तन एमलांबो ने कहा यह महत्वपूर्ण है कि गरीब अफ्रीकी जो खुद को न्याय प्रणाली में गैरबराबर महसूस करते हैं उन्हें सीधे तौर सुनवाई देखने का मौका मिले.

"कानून सबके लिए बराबर"

जज एमलांबो ने कहा, "अभी भी माना जाता है कि न्याय प्रणाली अमीर और रईस लोगों की मदद करती है जबकि गरीब और कमजोर लोगों पर सख्ती करती है." जज ने प्रसारण को लेकर कई शर्तें भी रखीं हैं, जैसे ब्रेक के दौरान कोई रिकॉर्डिंग नहीं होगी. केस में शामिल किसी भी पार्टी के गोपनीय संवाद की रिकॉर्डिंग की भी इजाजत जज ने नहीं दी है. जज ने कहा है कि कैमरा क्लोज अप शॉट भी नहीं ले पाएगा. और न ही उन चश्मदीदों के बयानों की रिकॉर्डिंग की इजाजत होगी जिन्होंने इसके लिए सहमति नहीं दी है. हालांकि पिस्टोरियस की गवाही को भी टीवी पर दिखाने की इजाजत होगी.

Oscar Pistorius Anhörung

पिस्टोरियस की गवाही के प्रसारण की इजाजत नहीं

जज ने कहा कि अगर सुनवाई कर रहे जज को लगेगा कि कैमरे की वजह से एक खास गवाह को बाधा पहुंच रही है या फिर निजता के अधिकार का हनन या गरिमा या अभियुक्त के निष्पक्ष सुनवाई के अधिकार का हनन हो रहा है तो प्रसारण रोक दिया जाएगा. पिस्टोरियस के वकीलों ने सुनवाई को टेलीविजन पर दिखाए जाने का विरोध किया है. ब्लेड रनर के नाम से मशहूर पिस्टोरियस ओलंपिक में दौड़ने वाले पहले विकलांग खिलाड़ी हैं. लंदन ओलंपिक में वह 4X400 मीटर की दौड़ में सेमीफाइनल तक जगह बना कर इतिहास बना चुके हैं. पैदाइशी तौर पर उनके दोनों पैरों में फिबुला हड्डियां नहीं थीं. जब वे सिर्फ 11 महीने के थे तो उनके दोनों पैरों को घुटने के पास से काट देना पड़ा था.

एए/एजेए (एपी,एएफपी)

DW.COM