1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

टीम इंडिया की 200 रन से शर्मनाक हार

भारतीय क्रिकेट टीम ने तीन देशों की वनडे सीरीज का पहला मैच शर्मनाक ढंग से 200 रन से गंवा दिया. पूरी भारतीय टीम सिर्फ 88 रन पर आउट हो गई. न्यूजीलैंड ने इसके साथ ही तीन देशों की वनडे सीरीज में बेहतरीन शुरुआत की.

default

सारे बल्लेबाज फुस्स

289 रन का लक्ष्य मुश्किल तो है लेकिन दुनिया की सबसे मजबूत बल्लेबाजी के लिए नामुमकिन नहीं दिख रहा था. पर न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने टीम इंडिया को ऐसा बांधा कि वे ठीक ढंग से छटपटा भी नहीं पाए और 100 रन के अंदर ही दम तोड़ दिया.

भारत का पहला विकेट 39 पर गिरा, जबकि आखिरी 88 पर. यानी पूरे दस विकेट सिर्फ 49 रन के अंतराल पर गिर गए. सबसे ज्यादा स्कोर रवींद्र जडेजा का रहा, 20 रन. वैसे सहवाग और दिनेश कार्तिक भी दहाई के आंकड़े में गए. बाकी के बल्लेबाज 10 रन तक नहीं पहुंच पाए. पूरी टीम 29.3 ओवर में ढेर हो गई और इस तरह ट्राएंगुलर सीरीज का पहला मैच भारत के लिए एक शर्मनाक अनुभव साबित हुआ.

वीरेंद्र सहवाग और दिनेश कार्तिक ने पारी की शुरुआत ठीक ठाक ढंग से की और पहले विकेट के लिए 39 रन बनाए. इसी स्कोर पर दोनों बल्लेबाज आउट हो गए और टीम को संवारने का जिम्मा तेजी से उभर रहे सुरेश रैना और रोहित शर्मा पर आ गया. लेकिन दोनों ही युवा बल्लेबाज नाकाम हो गए. दोनों ने मिल कर नौ रन बनाए.

युवराज सिंह की टीम इंडिया में वापसी तो हो गई है लेकिन वह अपनी जगह को न्यायोचित नहीं ठहरा पा रहे हैं. उन्होंने सिर्फ पांच रन बनाए और इस दौरान 25 गेंदें खेलीं. इस दौरान कप्तान महेंद्र सिंह धोनी रन आउट हो गए. यानी किसी न किसी तरह दोनों बल्लेबाजों में तालमेल न बन पाने का मामला भी बनता है.

टफी को सबसे ज्यादा तीन विकेट मिले, जबकि मिल्स और ओरम को दो दो विकेट मिले. इस हार के साथ ही टीम इंडिया की वनडे मैचों में दूसरे नंबर का स्थान खतरे में पड़ गया है. इस सीरीज में भारत और न्यूजीलैंड के अलावा मेजबान श्रीलंका की टीम भी खेल रही है. हर टीम को दो दो मैच खेलना है. फाइनल मैच 28 अगस्त को खेला जाएगा.

200 रन से हारने के साथ ही यह भारत की वनडे मैचों में चौथी सबसे बड़ी हार हो गई है. इससे पहले वह श्रीलंका से 245 रन, ऑस्ट्रेलिया से 208 रन और इंग्लैंड से 202 रन से हार चुका है. लेकिन पिछले छह साल में यह उसकी सबसे बड़ी हार है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः उ भट्टाचार्य

DW.COM

WWW-Links