1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

"टिड्डे सबसे स्वादिष्ट कीड़े"

दुनिया भर में अलग अलग तरह के लोग खाना भी अलग अलग खाते हैं. लेकिन क्या सच में किसी दिन लोग कीड़े खाने लगेंगे? कुछ लोगों का कहना है, हां

नीदरलैंड्स के वैज्ञानिक आर्नोल्ड फान हाइस के मुताबिक भविष्य में कीड़े अहम खाद्य स्रोत हो सकते हैं. डॉयचे वेले ने उनके पसंदीदा खाद्य कीड़ों के बारे में बात की.

डॉयचे वेले: आप कीड़े किस तरह से खाते हैं?

आर्नोल्ड फान हाइस: हां, हफ्ते में एक बार. नीदरलैंड्स में ऐसी बहुत सारी दुकानें हैं जहां से आप कीड़े खरीद सकते हैं. या फिर आप इंटरनेट पर भी ऑर्डर कर सकते हैं. खाने वाले कीड़े दो तरह के होते हैं. डीप फ्रीज यानि फ्रीज किए हुए सूखे टिड्डे और बीटल कीड़ों का लार्वा.

डॉयचे वेले: स्वाद में कौन सा कीड़ा सबसे अच्छा है?

आर्नोल्ड फान हाइस: टि़ड्डे और झींगुर अच्छे होते हैं लेकिन फिलहाल वे डच बाजार में उपलब्ध नहीं है.

डॉयचे वेले: स्वाद कैसा होता है?

आर्नोल्ड फान हाइस: वे चिकन या मांस की ही तरह होते हैं. अगर कोई स्वाद न मिलाया जाए तो ज्यादातर लोगों को पसंद नहीं आएगा. आपको सही तरीके से बनाना होगा और उसका इस्तेमाल अच्छे से करना होगा. और यह कीड़ों के किस्म पर भी निर्भर करता है. भुना हुआ झींगुर अच्छा स्वाद देता है. टिड्डों के साथ भी ऐसा ही है.

डॉयचे वेले: कीड़ों में आप स्वाद कैसे लाते हैं?

आर्नोल्ड फान हाइस: एक चुटकी नमक, टमाटर और थोड़ा प्याज. आप उसको चूर करके कई तरह के उत्पाद बना सकते हैं.

डॉयचे वेले: किस तरह की निरंतरता रहती है? क्या कीड़े मुलायम होते हैं या फिर करारे?

आर्नोल्ड फान हाइस: फिलहाल जो भी कीड़े बाजार में मिलते हैं वो सूखे और फ्रोजन होते हैं. जिसका मतलब है कि वे करारे होते हैं. ज्यादा लंबे समय के लिए उन्हें खाने योग्य बनाने का यही रास्ता है. लेकिन यह तरीका थोड़ा महंगा है. वास्तव में यह उचित नहीं है. फ्रीजर में कीड़ों को रखना बेहतर होगा.

डॉयचे वेले: कीड़े क्यों भविष्य में भोजन का एक महत्वपूर्ण स्रोत हैं?

आर्नोल्ड फान हाइस: दुनिया भर में 70 फीसदी कृषि भूमि का इस्तेमाल जानवरों के लिए होता है. जब मांस की मांग दोगुनी हो जाएगी तब हमें प्रोटीन के नए स्रोत की जरूरत होगी. कीड़े प्रोटीन के स्रोत हैं. आहार के लिहाज से कीड़े बेहतर स्रोत हैं.

डॉयचे वेले: क्या वे पर्यावरण के लिए अच्छे हैं?

आर्नोल्ड फान हाइस: हां, कीड़े कम ग्रीन हाउस गैसें और अमोनिया उत्पादन करते हैं. वे जो चीज खाते हैं उसको बड़ी कुशलता के साथ शारीरक वजन में तब्दील कर लेते हैं. शायद, क्योंकि वे ठंडे खून वाले होते हैं. उन्हें शरीर के तापमान को बढ़ाने के लिए कोई अतिरिक्त खाने की जरूरत नहीं होती. एक किलो मांस के उत्पादन के लिए आपको 25 किलो भोजन की जरूर होती है. एक किलो झींगुर के लिए आपको सिर्फ दो किलोग्राम खुराक की जरूरत होती है.

डॉयचे वेले: भोजन का सबसे अच्छा स्रोत कौन सा कीट है?

आर्नोल्ड फान हाइस: खाने योग्य करीब दो हजार कीट हैं. लेकिन सभी को पैदा नहीं किया जा सकता. लेकिन हमें भविष्य में इसको संभालना पड़ेगा ताकि बड़ी मात्रा में उत्पादन हो सके. पश्चिम देशों में टिड्डे और झींगुर बहुत लोकप्रिय हैं.

डॉयचे वेले: कीट खाने के लिए आप लोगों को किस तरह मनाएंगे?

आर्नोल्ड फान हाइस: सबसे पहले हमें कीड़ों के बारे में विस्तार से जानकारी मुहैया करानी होगी इसके साथ ही बताना होगा कि उन्हें खाना खतरनाक नहीं है. कई लोग कीड़ों को गंदी चीजों से जोड़ कर देखते हैं. साथ ही पाक कला के जानकारों को इस पर लजीज खाना बनाना की ओर काम करना होगा.

डॉयचे वेले: क्या ऐसे रेस्तरां मौजूद हैं जो कीड़ों से बने व्यंजन परोसते हैं?

आर्नोल्ड फान हाइस: जी, उदाहरण के लिए कोपनहेगन में नोमा रेस्तरां में ऐसे व्यंजन परोसे जाते हैं. दो हफ्ते पहले इस रेस्तरां को दोबारा दुनिया का सबसे बेहतरीन रेस्तरां घोषित किया गया है. उसके मेन्यू में कीड़े भी होते हैं. कई बार मशहूर शेफ के व्यंजनों को अन्य शेफ नकल भी करते हैं. इस वजह से हमें उम्मीद है कि ऐसे टीवी शो होंगे जहां लोगों को कीड़ों के साथ खाना पकाने की प्रैक्टिस का मौका मिलेगा. नीदरलैंड्स में तो इस तरह एक शो भी है. चब चीजें इतनी आगे चली जाएंगी तो लोगों की मानसिकता और धारणाएं भी तेजी से बदल जाएंगी.

आर्नोल्ड फान हाइस नीदरलैंड्स में वागेनिंगन यूनिवर्सिटी में कीड़ों के रिसर्चर हैं. वे "इंसेक्ट टू फीड दी वर्ल्ड" कॉन्फ्रेंस के सह आयोजकों में से एक हैं. उन्होंने कीड़ों से बनने वाले व्यंजनों पर एक किताब लिखी है.

रिपोर्ट: ब्रिगेटे ओस्टेराथ/ एए

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM