1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

टायरों से जूझते वर्ल्ड चैंपियन

फॉर्मूला वन के चैंपियन सेबास्टियान फेटल अपनी गाड़ी की टायर की समस्या से निबटने के उपाय ढूंढ रहे हैं तो सीजन की पहली रेस जीतने वाले किमी राइकोनेन एक और जीत के साथ फर्राटा रेस में फिनलैंड के सबसे सफल ड्राइवर बन जाएंगे.

ऑस्ट्रेलिया में फॉर्मूला वन की इस सीजन की पहली रेस जीतकर 33 वर्षीय राइकोनेन अब तक के रिकॉर्डधारी मीका हैकिनेन के बराबर पहुंच गए हैं. इन दोनों ड्राइवरों के खाते में 20-20 ग्रां प्री जीत दर्ज हैं. अगले रविवार को मलेशिया में अगली रेस है और वहां जीत के साथ राइकोनेन दो बार विश्व चैंपियन रहे हैकिनेन को पीछे छोड़ सकते हैं. अब तक सिर्फ 13 ड्राइवरों से राइकोनेन से ज्यादा ग्रां प्री जीता है. सात बार चैंपियन रहे जर्मनी के मिषाएल शूमाखर ने सबसे ज्यादा 91 रेसें जीती हैं. इस समय सक्रिय ड्राइवरों में फर्नांडो अलोंसो ने 30, सेबास्टियान फेटल ने 26 और लुइस हैमिल्टन ने 21 रेसें जीती हैं.

Formel-1-Rennen in Melbourne Kimi Räikkönen

किमी राइकोनेन

राइकोनेन की चिंता इस समय रिकॉर्ड बनाने से अधिक अपना सामान्य प्रदर्शन जारी रखने की है. मलेशिया की रेस में वे फेवरिट हैं, लेकिन वहां जीतने के लिए वह कुछ खास नहीं कर रहे हैं. कहते हैं, "हम उससे कुछ अलग नहीं कर रहे हैं जो हमने पिछले हफ्ते किया या पिछले सीजन में किया. हम सबसे आगे हैं इससे कोई अंतर नहीं पड़ा है." इस साल जीत की उम्मीद वे जरूर कर रहे हैं, "मुझे उम्मीद है कि साल के अंत हमें ठीक से जश्न मनाने का मौक मिलेगा."

उधर चैंपियन फेटल टायर की समस्या से निबटने में उलझे हैं. रेड बुल के पायलट ने मलेशिया ग्रां प्री से पहले कहा, "हमने बहुत कुछ सीखा है, लेकिन अभी भी ऐसी चीजें हैं जिसे हम नहीं समझ पाए हैं." टायर अत्यधिक ठंड या गर्मी की हालत में मुश्किल खड़ी कर रहे हैं. रविवार को मलेशिया की रेस में भी उसकी अहम भूमिका रहेगी. मेलबर्न में टायर के बहुत ज्यादा घिसने के कारण फेटल रेस में तीसरे स्थान पर आए थे. टाइटलधारी फेटल कहते हैं, "मुझे किसी चमत्कार की उम्मीद नहीं है. ड्राइवर के रूप में आप उस पर बहुत सीमित असर डाल सकते हैं."

Formel 1 Großer Preis von Brasilien

सेबास्टियान फेटल

इस बीच मेलबर्न रेस में शामिल नहीं हो पाए निको हुल्केनबर्ग मलेशिया में बिना किसी समस्या के रेस में भाग ले पाने की उम्मीद कर रहे हैं. इस बार पहली बार साउबर की टीम में शामिल 25 वर्षीय हुल्केनबर्ग ने कहा है, "जैसा ऑस्ट्रेलिया में हुआ वैसा फिर नहीं होगा." अपनी गाड़ी में पेट्रोल की समस्या के कारण उन्हें अंतिम समय में मेलबर्न रेस से बाहर होना पड़ा था. हुल्केनबर्ग का कहना है कि गाड़ी की टैंक में एयर भरने से समस्या पैदा हो गई जिसके कारण टैंक को नुकसान पहुंचा. इस बीच टीम के तकनीशियनों ने इसे रोकने के लिए बहुत से टेस्ट किए हैं.

इस साल फॉर्मूला वन में कुल 19 ग्रां प्री रेस होंगी. सीजन की दूसरी रेस मलेशिया के सेपांग इंटरनेशनल सर्किट पर रविवार को होगी.

एमजे/ओएसजे (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links