1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

टाइम्स स्क्वेयर: छापे में तीन गिरफ़्तार

अमेरिका में न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर पर विफल कार बम हमले की जांच कर रही पुलिस टीम ने तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है. न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी और बोस्टन के बाहरी इलाक़ों में छापे की कार्रवाई के दौरान हुई गिरफ़्तारियां.

default

पुलिस का कहना है कि फ़िलहाल हमले का ख़तरा नहीं है. रिपोर्टों के मुताबिक़ जिन लोगों की गिरफ़्तारी हुई है उन्हें इमिग्रेशन नियमों के उल्लंघन में गिरफ़्तार किया गया है. अमेरिका के अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर ने बताया, "कई इलाक़ों में छापे के लिए सर्च वारंट जारी किए गए थे. इन छापों के दौरान कुछ लोगों को हिरासत में ले लिया गया है. इन पर इमिग्रेशन नियमों के उल्लंघन का आरोप है."

होल्डर के मुताबिक़ टाइम्स स्क्वेयर बम कांड की जांच के दौरान कई सबूत मिले हैं और उसी के चलते ताज़ा छापे मारे गए हैं. इमिग्रेशन एंड कस्टम्स एनफ़ोर्समेंट एजेंसी की प्रवक्ता कैली नैन्टेल ने कहा, "हमने तीन गिरफ़्तारियां की हैं. एफ़बीआई के अभियान में कुछ लोगों के इमिग्रेशन नियमों के उल्लंघन की बात सामने आई है."

वॉशिंगटन में एरिक होल्डर ने बताया कि गिरफ़्तार हुए लोगों का संबंध फ़ैसल शहज़ाद से रहा है. पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि आपस में इनका रिश्ता क्या है. अमेरिकी मीडिया के मुताबिक़ जिन आप्रवासियों को गिरफ़्तार किया गया है उन पर पुलिस को शक़ है कि उन्होंने फ़ैसल शहज़ाद को धन मुहैया कराया.

New York Time Square Bombe

अमेरिकी अधिकारियों ने न्यूज़ एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस को बताया है कि बोस्टन में गिरफ़्तार होने वाले दो व्यक्ति पाकिस्तान से हैं. एक व्यक्ति को इसलिए गिरफ़्तार किया गया है क्योंकि वीज़ा की अवधि समाप्त होने के बाद भी वह अमेरिका में रह रहा है. दूसरे पर इमिग्रेशन अदालत में सुनवाई हो चुकी है और वह फ़ैसले का इंतज़ार कर रहा है कि उसे अमेरिका से देश निकाला दिया जाए या नहीं.

पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक फ़ैसल शहज़ाद को न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर पर कार बम हमले की कोशिश के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था. फ़ैसल ने पुलिस को बताया है कि उसने अकेले ही इस घटना को अंजाम देने की कोशिश की थी लेकिन जांचकर्ताओं का कहना है कि इस साज़िश के पीछे पाकिस्तानी तालिबान या फिर कश्मीरी इस्लामी चरमपंथी संगठन का हाथ हो सकता है. पाकिस्तानी तालिबान ने टाइम्स स्क्वेयर पर विफल कार बम हमले के लिए ज़िम्मेदार होने का दावा भी किया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा मोंढे

संबंधित सामग्री