1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ब्लॉग

झूमते कोलोन का कार्निवाल

जर्मनी के कोलोन शहर की कार्निवाल परेड की गिनती दुनिया की महत्वपूर्ण परेडों में होती है. इस दौरान पूरा कोलोन शहर कार्निवाल के उल्लास में झूम उठता ​है. बुधवार को कार्निवाल सीजन पूरा होता है और उपवास का महीना शुरू होता है.

इन अनुभवों के लिए अगर ब्लॉग लिखने के बजाय मुझे एक रेडियो प्रोग्राम बनाना होता तो मैं उसकी शुरूआत अमरीकी लोकगायक वुडी गुथरी के लिखे गीत, '..दिस लैंड इज योर लैंड, दिस लैंड इज माय लैंड..' से करता, जिसे अमरीकी लोकगायकी के पितामह 'पीट सीगर' की खनकती आवाज ने, अपने 'बैंजो' के तारों में पिरोकर अमर कर दिया है. ये गाना मेरे जेहन में, बॉन से कोलोन की ओर बढ़ रही ट्रेन में उस वक्त उतरा, जब ट्रेन की खिड़की के बाहर रिमझिम बारिश में भींग रहे हरे—मटमैले खेतों का विस्तार दूर तक पसरा नजर आ रहा था और उस पर बह रही तेज हवाओं को आप अपनी नजरों से छू सकते थे. राइन नदी के साथ-साथ पसरे ये खेत, गंगा-यमुना के उपजाऊ दोआब के बीच गुजरती हमारी किसी भी खड़बड़ाती ट्रेन से दिखने वाले नज़ारों से हूबहू मेल खाते थे.

मेरे इर्द-गिर्द की सीटों में अजब—गजब तरह की पोशाकें पहने और अपने चेहरे पर मजाकिया किस्म से रंग-रोगन किए, तकरीबन हर कोई शख्स झूम रहा था. अगर मुझे जर्मनी पहुंचे एक हफ्ता नहीं हो गया होता और शुक्रवार को डॉयचे वेले के दफ्तर में कार्निवाल के एक मजेदार आयोजन में मैंने शिरकत नहीं कर ली होती, तो ये अजीब कपड़े पहने लोग मुझे जरूर चकरा देते. लेकिन मुझे मालूम था जर्मनी इन दिनों कार्निवाल के उल्लास में है और ट्रेन में मेरे साथ मौजूद तकरीबन हर शख्स कोलोन में होने वाली ऐतिहासिक परेड देखने जा रहा है. कोलोन की परेड की गिनती रियो के कार्निवाल के बाद दुनिया की महत्वपूर्ण परेडों में होती है.

ट्रेन मुझे कोलोन के सेंट्रल स्टेशन यानि 'कोएल्न बानहोफ' ले आई. किसी रेलवे स्टेशन का ऐसा दृश्य आपको और कहीं देखने को शायद ही मिले. हर तरफ उमंग से लहराते लोग और उत्सव का माहौल. मुझे मालूम नहीं था कि मुझे कोलोन में जाना कहां है, परेड कहां होगी और कैसी होगी. लेकिन कोलोन स्टेशन के ठीक बाहर निकलते ही रंग—बिरंगे परिधानों में लिपटी भीड़, 'कोएल्नर डोम' यानि कोलोन के मुख्य गिरजाघर की बेहद ऊंची इमारत के सामने से होते, गलियों में घुमाते—फिराते मुझे खुद-ब-खुद उन सड़कों तक ले आई जहां से होकर परेड को गुजरना था. सड़कों के दोनों ओर खाने-पीने की अस्थाई दुकानें सजी हुईं थी. जिनमें बीयर, वाइन और अलग-अलग किस्म की कई शराबें भी मिल रही थी. खाने और पीने के शौकीन, दोनों कामों में मशगूल थे और अलग-अलग जगहों से आती संगीत की आवाजों में झूम रहे थे.

ट्रेन में बैठे-बैठे ही मैं कार्निवाल का मोटा-मोटा इतिहास अपने फोन पर गूगल में खंगाल चुका था. मुझे पता चला कि जर्मनी में लोग एक तरह से मध्यकाल से कार्निवाल मनाते आए हैं. लेकिन इससे पहले भी लोग सर्दियों के खत्म होने के इस मौसम में कुछ पारंपरिक आयोजन के साथ जश्न मनाया करते थे. रोमन काल में लोग बसंत का स्वागत करते हुए ये उत्सव मनाया करते थे. इस उत्सव को 'वाइन' के देवता 'डायनॉयसॉस' के सम्मान में मनाया जाता था और इस दौरान खूब शराब पीने और हंसने-गाने का रिवाज था. फिर जब राइन नदी से जुड़े इलाके का ईसाईकरण हुआ तो इस उत्सव को भी आधिकारिक तौर पर चर्च के कैलेंडर में शामिल कर लिया गया और बाद में इसे ही कार्निवाल का नाम मिला. पर असल में 19वीं सदी की शुरूआत में, जब प्रशिया के शासकों ने राइन नदी के इलाके पर शासन करना शुरू किया उसी दौर में कार्निवाल इस तरह संस्थागत हुआ.

जर्मनी पहुंचने के बाद मुझे घर दिलाने में मदद करने वाले रिलोकेशन टीम के फेलिक्स ने भी मुझे प्रशियन सेना और कार्निवाल से जुड़ा इतिहास बताया था. प्रशियन सेना को उसके कड़े अनुशासन और क्रूरता के लिए जाना जाता था. लेकिन कार्निवाल के दिनों में लोग प्रशियन सैनिकों की तरह का ड्रेस पहनकर, प्रशियन शासकों का विरोध जताते और मजाक उड़ाया करते थे. ये ही परंपरा आजकल की उन झांकियों में दिखाई देती है जो प्रशियन सेना की टुकड़ी का अभिनय करती हैं.

कोलोन में सड़कों के दोनों ओर किलोमीटरों जुटी लाखों लोगों की भीड़ यही झांकियां देखने आई थी. कोलोन भर की सड़कों की बैरिकेडिंग की गई थी जिसके बीच से होकर झांकियों को गुजरना था.

धीरे-धीरे इन रोचक झांकियों का सिलसिला शुरू हुआ. प्रशियन सैनिकों की तरह कपड़े पहने और उसकी नकल उतारते लोगों की अधिकतर झांकियों को पानी के जहाज की शक्ल दी गई थी, लेकिन इसके अलावा ट्रेन के इंजन, हवा में उड़ते से दिखते घोड़ों से बंधे विशाल रथ, और भी कई किस्म की झांकियां इस परेड में शामिल थीं. इन झांकियों के साथ ही खूबसूरत परिधानों में सजे, संगीत बजाते और नाचते लोग भी शामिल थे. झांकियों के साथ चल रहे ये लोग झांकियां देखने आए लोगों पर टॉफियां-चॉकलेट्स और फूलों की बरसात कर रहे थे. जिन्हें बटोरने की लोगों में होड़ लगी हुई थी. मैं भी कुछ चॉकलेट्स और टॉफियां बटोरता रहा.

जर्मन लोगों के नामों को याद करना भी मेरे लिए मुश्किल है. इसलिए उस जहीन शख्स का नाम भी मैं आपको नहीं बता पाउंगा जो शुरूआत में परेड देखते हुए ठीक मेरे बगल में अपनी पत्नी के साथ खड़े थे. उन्होंने मुझसे परेड के बारे में अपनी कई यादें साझा की और उत्सव की बारीकियों को मुझे समझाया. मसलन कि भीड़ झांकियों की ओर हाथ हिलाते हुए जो गुनगुना रही है उसका मतलब 'चाकलेट और फूल' मांगना है.

किलोमीटरों लंबी इस कतार के साथ मैं देर तक पैदल ही यहां—वहां घूमता रहा. अब तक भूख लग आई थी और मैं ये राय नहीं बना पा रहा था कि खाया क्या जाए. बेशक यहां पश्चिमी खाने का कोई विकल्प नहीं है. लेकिन मुझे सड़क के किनारे के एक स्टॉल में एक बड़े कंटेनर में खौलते तेल में कुछ तलता दिखाई दिया. मैं कुछ देर स्टॉल के बाहर खड़ा रहा तो भीतर से दुकानदार ने स्वागत कर बुलाया ''आलू की टिक्की है भाई साहब.. आइए!'' मैं चौंका ये तो हिंदुस्तानी आवाज थी. करीब गया तो दुकानदार ने लहराकर ताजा तली आलू की एक टिक्की मेरी तरफ बढ़ा दी. बताया कि उनका नाम आमिर है और वे पाकिस्तान से हैं. साथ में तेजी से टिक्कियां तल कर ग्राहकों की ओर बढ़ाती जर्मन महिला की ओर इशारा करते हुए आमिर ने बताया, ''ये मेरी वाइफ हैं. मैं पिछले 14 साल से जर्मनी में हूं और अब यहीं सैटल हो गया हूं.''

इसके बाद आमिर ने मुझसे मेरे बारे में पूछा और मेरी ओर एक कोक की बोतल और एक प्लेट में रख कुछ और टिक्कियां बढ़ा दी. साथ में सेव की मीठी चटनी भी थी. आमिर कार्निवाल के मेरे अनुभव पूछने लगे. लोगों की इतनी भीड़ के बीच आमिर ही थे जिनसे में अपनी भाषा में अपने अनुभव साझा कर पा रहा था. आमिर को टिक्की और कोक के पैसे देने चाहे तो उन्होंने एकदम मना कर दिया. अपना नंबर दिया और कहा, ''कभी भी कोलोन की तरफ आना हो तो जरूर कॉल कीजिए.'' आमिर के साथ इस छोटी मुल़ाकात ने मुझे आत्मीयता से भर दिया. उनकी पत्नी ने भी गर्मजोशी से मुझे विदा किया और मैं फिर कार्निवाल के उत्सव में शरीक हो गया.

धीरे-धीरे शाम ढलने लगी थी. और झांकियों को समेटने की शुरूआत होने लगी. जहां से आखिरी झांकी आगे बढ़ जाती लोग बैरिकैडिंग के भीतर आकर तेज बजते म्यूजिक की धुन में नाचने लगते. धीरे-धीरे कोलोन की सड़कें नाचते लोगों के झुंड से भर गई. खूबसूरत संगीत की आवाजें फिजाओं में तैर रही थी और सारा शहर इन आवाजों में बेसुध नाच रहा था.

धीरे-धीरे शाम ढलती गईं और छोटे—छोटे झुंड में लोग अपने घरों की ओर बढ़ने लगे. मैं भी जिंदगी के एकदम नए अनुभव बटोरे कोलोन बानहोफ की तरफ बढ़ने लगा. यहां फिर लोगों का फिर वही हुजूम था. लेकिन कुछ ही देर में मैं बॉन की तरफ बढ़ रही एक ट्रेन की किसी सीट में बैठा, बाहर दूर—दूर के घरों में दिख रही रोशनी की तरफ झांक रहा था. और पीट सीगर की आवाज मेरे जेहन में बरकरार थी..

''..दिस लैंड इज योर लैंड, दिस लैंड इज माइ लैंड.''

DW.COM

संबंधित सामग्री