1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

झारखंड में बीजेपी की सरकार बनेगी

दो हफ्ते की राजनीतिक अनिश्चितता को समाप्त करते हुए झारखंड में नई सरकार का रास्ता साफ हो गया है. बीजेपी राज्य में सरकार बनाएगी और उसे जेएमएम और आजसू का समर्थन हासिल होगा. दिल्ली में बातचीत के बाद फैसला.

default

गडकरी की अध्यक्षता में बैठक

शिबू सोरेन के अगुवाई वाले झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) और ऑल झारखंड स्टूडेन्ट्स यूनियन (आजसू) ने शनिवार को बीजेपी सरकार को समर्थन देने का एलान कर दिया. इसके साथ ही तय हो गया कि झारखंड में अगले साढ़े चार साल तक बीजेपी का मुख्यमंत्री होगा और उसे स्थानीय पार्टियां समर्थन देंगी.

बीजेपी ने कुछ दिनों पहले झारखंड सरकार से समर्थन वापस ले लिया था क्योंकि जेएमएम ने संसद में उसके प्रस्ताव के विरोध में वोटिंग कर दी थी. इसके बाद से ही राज्य में राजनीतिक गहमागहमी तेज हो गई. इस बीच शनिवार को दिल्ली में बीजेपी के अध्यक्ष नितिन गडकरी, महासचिव अनंत कुमार, झारखंड के उप मुख्यमंत्री रघुवर दास, जेएमएम विधायक दल के नेता और शिबू सोरेन के पुत्र हेमंत सोरेन तथा आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो के बीच बैठक हुई.

Shibu Soren Indien

चंद महीने रहे मुख्यमंत्री

बैठक में तय हुआ कि आने वाले साढ़े चार सालों के लिए झारखंड की कमान बीजेपी को सौंप दी जाए और दोनों पार्टियां उसे सरकार बनाने में समर्थन दें. बैठक के बाद हेमंत सोरेन ने कहा, "बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के साथ हमारी बातचीत सकारात्मक रही. हम झारखंड में बीजेपी की अगुवाई वाली सरकार को समर्थन देंगे. यह फैसला इसलिए किया गया ताकि हम राज्य में राष्ट्रपति शासन से बच सकें."

बीजेपी के महासचिव अनंत कुमार ने जोर देकर कहा कि बातचीत बेहद सफल और सकारात्मक रही. उन्होंने कहा, "झारखंड में ऐसी सरकार बनेगी, जिसका नेतृत्व बीजेपी करेगी. हम राज्य को कांग्रेस के खराब शासन से बचाना चाहते हैं. ऐसी सरकार बनेगी, जो स्थिर होगी और जो विकास के लिए काम करेगी."

कुमार ने कहा, "हमने फैसला किया है कि यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. यह फैसला विधानसभा के बचे हुए पूरे कार्यकाल के लिए किया गया है."

बीजेपी और जेएमएम में समझौते के बाद जल्द ही न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार किया जाएगा, जिसमें इस बात की चर्चा होगी कि सरकार किस तरह काम करेगी. बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी जल्दी ही एक पर्यवेक्षक को झारखंड की राजधानी रांची भेज रहे हैं, जो राज्य में बीजेपी, जेएमएम और आजसू के नेताओं से बातचीत करेगा.

लोकसभा में बीजेपी के कटौती प्रस्ताव पर 28 अप्रैल को जेएमएम ने इसके विरोध में मतदान कर दिया था. इसके बाद ही बीजेपी ने झारखंड की सरकार से समर्थन वापस ले लिया था. लेकिन बाद में हेमंत सोरेन ने बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दे दिया, जिसके बाद बीजेपी ने दोबारा विचार करके इसे मान लिया.

बीजेपी ने अभी झारखंड के मुख्यमंत्री के नाम का एलान नहीं किया है. लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और उप मुख्यमंत्री रघुवर दास के नाम सबसे आगे चल रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संबंधित सामग्री