1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

'झगड़े' के आरोप से संगकारा बरी

लोगों को भले ही मैदान पर न्यूजीलैंड के गेंदबाज नाथन मैकुलम के साथ कुमार संगकारा का व्यवहार अच्छा नहीं लगा, लेकिन आईसीसी का कहना है कि श्रीलंका के कप्तान ने खिलाड़ियों के लिए बनाए गए नियमों का उल्लंघन नहीं किया.

default

शुक्रवार को श्रीलंका और न्यूजीलैंड के मैच में दोनों खिलाड़ियों के बीच तू तू मैं मैं हो गई थी. मैच के दौरान एक रन लेते वक्त संगकारा गेंदबाज मैकुलम से टकरा गए. संगकारा का कंधा मैकुलम से लगा. इसके बाद उन्होंने मैकुलम से काफी बहस की. मैच के बाद रेफरी एलन हर्स्ट ने संगकारा को तलब किया. मामले की सुनवाई के दौरान संगकारा पर आईसीसी के कोड ऑफ कंडक्ट के लेवल 2 का आरोप लगा. इस लेवल पर खेल के बीच में जानबूझकर और गलत तरीके से दूसरे खिलाड़ियों को टक्कर मारने का दोषी पाया जाता है.

लेकिन रेफरी ने विडियो देखने के बाद श्रीलंकाई कप्तान को बरी कर दिया. हर्स्ट ने कहा, "मैंने घटना को विडियो फुटेज में देखा. इसके अलावा मैंने अंपायरों से भी बात की. इस वीडियो को देखने के बाद इस बात पर संदेह होता है कि टक्कर जानबूझकर मारी गई."

श्रीलंका और न्यूजीलैंड का यह मैच बारिश की वजह से अधूरा रह गया. गुरुवार को भी बारिश की वजह से मैच को एक दिन के लिए टाल दिया गया था. जब शुक्रवार को भी मैच पूरा नहीं हो सका तो आखिरकार दोनों टीमों को अंक बांटने पड़े.

Suraj Randiv

श्रीलंकाई टीम की भावना पर सवाल

शुक्रवार की घटना के बाद श्रीलंका के क्रिकेट बोर्ड ने संगकारा को अपना व्यवहार सही रखने के लिए कहा है. इससे पहले भी संगकारा अपने खिलाड़ियों के गलत व्यवहार के लिए सुर्खियों में रहे जब सोमवार को भारतीय बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग की सेंचुरी पूरी न होने देने के लिए उनके दो खिलाड़ियों सूरज रणदीव और तिलकरत्ने दिलशान को सजा दी गई. जब वीरेंद्र सहवाग 99 रन पर खेल रहे थे और भारत को जीतने के लिए एक रन की जरूरत थी, तब श्रीलंका के गेंदबाज सूरज रणदीव ने नो बॉल फेंक दी. इस वजह से सहवाग की सेंचुरी पूरी नहीं हो सकी. बाद में पता चला कि दिलशान ने रणदीव को ऐसा करने के लिए उकसाया.

श्रीलंका क्रिकेट ने संगकारा को चेतावनी दी है कि ऐसी घटनाएं मैदान पर दोबारा न हों. बोर्ड की तरफ से कहा गया है, "ऐसी घटनाएं नहीं होना चाहिए जिनमें खेल भावना की कमी हो और जिनकी वजह से खेल की बदनामी हो."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links