1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ज्वाला से कोई रोमांस नहीं कर रहाः अजहर

भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान और मुरादाबाद के सांसद मोहम्मद अजहरुद्दीन ने बैडिमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गट्टा के साथ किसी रोमांटिक रिश्ते से इनकार किया है. उनका कहना है कि गट्टा तो उनकी दोस्त भर हैं.

default

रोमांस की खबरों से परेशान हैं अजहरूद्दीन

मीडिया में छप रही रिपोर्टों में तो यहां तक कहा गया है कि 47 साल के अजहरुद्दीन ने अपनी पत्नी संगीता बिजलानी से तलाक लेने का फैसला किया है और वह अदालत में अर्जी भी फाइल करने वाले हैं, ताकि ज्वाला के साथ शादी कर सकें. अजहर ने 14 साल पहले अपनी पहली पत्नी से तलाक लेकर संगीता से शादी की थी.

लेकिन अजहर ने इन रिपोर्टों को बेबुनियाद बताया. उन्होंने कहा कि वह ज्वाला को जानते हैं और दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं. उनका कहना है कि ये सब बातें बैडमिंटन असोसिएशन के लोगों ने उड़ाई हैं क्योंकि वह पिछले महीने बैडमिंटन असोसिएशन का चुनाव लड़ना चाहते थे. उन्होंने कहा कि ज्वाला अच्छी खिलाड़ी हैं और देश के लिए बहुत कुछ जीत सकती हैं.

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि ज्वाला गट्टा के प्रैक्टिस

Indien Kandidat der indischen Kongresspartei für den Wahlkeis Moradabad

सेशन के दौरान कई बार अजहरुद्दीन को उनके साथ देखा गया है. मिक्स्ड डबल खिलाड़ियों में ज्वाला दुनिया की सातवीं नंबर की खिलाड़ी हैं.

भारतीय पिता और चीनी मां की 26 साल की बेटी ज्वाला गट्टा शादी शुदा हैं और उनके पति चेतन आनंद भारत के पुरुष बैडमिंटन चैंपियन हैं. अजहरुद्दीन की ही तरह ज्वाला भी हैदराबाद की रहने वाली हैं.

सचिन तेंदुलकर से पहले अजहरुद्दीन को भारत का सबसे प्रतिभाशाली बल्लेबाज समझा जाता था. उन्होंने 1990 के दशक में ज्यादातर वक्त भारत की कप्तानी की. लेकिन इसी दौरान वह मैच फिक्सिंग स्कैंडल में पकड़े गए और 99 टेस्ट मैचों के साथ उनके अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अंत हो गया. वह पहले तीन टेस्ट मैचों में शतक लगाने वाले दुनिया के इकलौते बल्लेबाज हैं.

करीब 14 साल पहले अजहरुद्दीन ने अपनी पहली पत्नी नौरीन को तलाक देकर बॉलीवुड की नाकाम अभिनेत्री संगीता बिजलानी से शादी कर ली. पिछले साल के लोक सभा चुनाव में अजहरुद्दीन ने उत्तर प्रदेश की मुरादाबाद सीट से किस्मत आजमाई. कांग्रेस का टिकट पाने के बाद उन्हें जीत भी मिल गई. लेकिन सांसद के साथ साथ वह बैडमिंटन असोसिएशन का अध्यक्ष पद भी पाना चाहते थे.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः वी कुमार